Sunday, 17 January 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

विश्व कप 2015: रैना, धौनी ने भारत को 6 विकेट से दिलाई जीत

विश्व कप 2015: रैना, धौनी ने भारत को 6 विकेट से दिलाई जीत ऑकलैंड: सुरेश रैना के बेहतरीन शतक की मदद से भारत ने शुरुआती झटकों से उबरकर जिम्बाब्वे को 6 विकेट से हराया और विश्व कप ग्रुप चरण में पूल बी में शीर्ष पर रहा। रैना के नाबाद 110 रन और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की 85 रन की पारी की मदद से भारत ने जीत के लिये विश्व कप में अब तक का सबसे बड़ा 288 रन का लक्ष्य 48.4 ओवर में हासिल कर लिया। इससे पहले जिम्बाब्वे के लिये अपना आखिरी मैच खेल रहे ब्रेंडन टेलर के 138 रन की मदद से उनकी टीम ने 48.5 ओवर में 287 रन बनाए थे।

भारत ने पूल बी के सभी छह मैच जीते और अब टूर्नामेंट में लगातार जीत का उसका रिकॉर्ड 10 मैचों का हो गया। भारत ने क्लाइव लायड की वेस्टइंडीज टीम का 1975 विश्व कप से 1983 विश्व कप तक का लगातार जीत का रिकॉर्ड तोड़ा। विश्व कप में भारत से अधिक लगातार मैच सिर्फ ऑस्ट्रेलिया ने जीते हैं जिसने रिकी पोंटिंग की कप्तानी में 1999 से 2011 क 24 जीत लगातार दर्ज की थी।

भारत को अब 19 मार्च को मेलबर्न में क्वार्टर फाइनल में बांग्लादेश से खेलना है। एक समय पर भारत के चार विकेट 92 रन पर गिर गए थे लेकिन इसके बाद धोनी और रैना ने 5वें विकेट के लिए 156 गेंद में रिकॉर्ड 196 रन की साझेदारी करके टीम को जीत तक पहुंचाया।

रैना ने अपना पांचवां वनडे शतक नौ चौकों और चार छक्कों की मदद से पूरा किया। उसने पहले 50 रन 67 गेंद में और दूसरे सिर्फ 27 गेंद में पूरे किए। उसे 47 के स्कोर पर जीवनदान मिला था जब सिकंदर रजा की गेंद पर शॉर्ट फाइन लेग में हैमिल्टन मसाकाजा ने उसका कैच छोड़ा। धोनी ने एक बार फिर पारी के सूत्रधार की भूमिका निभाते हुए 76 गेंद की अपनी पारी में आठ चौके और दो छक्के लगाए। उन्होंने छक्का लगाकर भारतीय टीम को जीत दिलाई।

भारत की शुरुआत बेहद खराब रही थी। सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा (16) और शिखर धवन (4) सस्ते में आउट हो गए जबकि विराट कोहली (34) अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में नहीं बदल सके। अजिंक्य रहाणे भी 19 रन बनाकर अपना विकेट गंवा बैठे।

इससे पहले अपने आखिरी वनडे मैच में कैरियर की सर्वश्रेष्ठ पारी खेलते हुए कप्तान टेलर ने 138 रन बनाये जिसकी मदद से उनकी जिम्बाब्वे ने 287 रन का स्कोर खड़ा किया। यह भारत के खिलाफ मौजूदा विश्व कप में किसी टीम का सर्वोच्च स्कोर था। इससे पहले आयरलैंड ने गत चैम्पियन के खिलाफ 259 रन बनाये थे।

पहले बल्लेबाजी के लिए भेजे जाने पर टेलर ने भारतीय गेंदबाजी को धता बताते हुए अपनी 110 गेंद की पारी में 15 चौके और 5 छक्के लगाये। उन्होंने अपना पहला अर्धशतक 64 गेंद में पूरा किया जबकि बाकी 88 रन सिर्फ 46 गेंद में बनाए। उन्होंने शतक 99 गेंद में पूरा कर डाला जो उनका 8वां वनडे शतक है।

भारत के खिलाफ इस विश्व कप में शतक जमाने वाले वह पहले खिलाड़ी बने। शतक के बाद सुरेश रैना, विराट कोहली और शिखर धवन ने उन्हें बधाई दी तो भारतीय समर्थकों ने खड़े होकर उनका अभिवादन किया। इस मैच के बाद वह वित्तीय दिक्कतों के चलते हमेशा के लिए इंग्लैंड में बस रहे हैं।

इस मैच में भारतीय स्पिनरों का सिक्का नहीं चला। आर अश्विन ने 10 ओवर में 75 रन दिये जबकि उन्हें सिर्फ एक विकेट मिला। रविंद्र जडेजा ने 10 ओवर में 71 रन दे डाले और उन्हें कोई विकेट नहीं मिला। भारत के लिए तीनों तेज गेंदबाजों ने तीन तीन विकेट लिए। मोहित शर्मा ने 10 ओवर में 48 रन देकर, मोहम्मद शमी ने नौ ओवर में 48 रन देकर और उमेश यादव ने 4.5 ओवर में 43 रन देकर तीन-तीन विकेट लिए।

सीन विलियम्स (50) ने टेलर का बखूबी साथ निभाया। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 93 रन जोड़े। वहीं क्रेग इरविन (27) और टेलर ने पांचवें विकेट के लिए 109 रन की साझेदारी की। एक समय पर जिम्बाब्वे का स्कोर 11 ओवर में तीन विकेट पर 33 रन था। हैमिल्टन मसाकाजा (2), चामू चिभाभा (7) और सोलोमन माइरे (9) जल्दी आउट हो गए। इसके बाद टेलर और सीन विलियम्स क्रीज पर आये।

कार्यवाहक कप्तान टेलर ने एहतियात के साथ शुरूआत करते हुए बाद में हाथ खोले। जिम्बाब्वे का पहला चौका 17वें ओवर में लगा। टेलर ने भारतीय स्पिनरों को बखूबी खेला जबकि अभी तक टूर्नामेंट में बाकी बल्लेबाजों को इसमें काफी दिक्कत आई थी। विलियम्स ने 55 गेंद में तीन छक्कों और तीन चौकों की मदद से 50 रन पूरे किए। वह अश्विन को रिटर्न कैच देकर लौटे।
अन्य वर्ल्ड कप लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack