गुलाब नहीं किताब

गुलाब नहीं किताब नई दिल्ली: शनिवार से अगले बाइस फरवरी तक दिल्ली में विश्व पुस्तक मेला शुरू हो चुका है । इस बार के पुस्तक मेले में सम्मानित अतिथि देश सिंगापुर है और थीम पू्र्वोत्तर भारत  के उभरते स्वर तो फोकस देश दक्षिण कोरिया है । पिछले दो तीन सालों में विश्व पुस्तक मेले ने एक नया शक्ल अख्तियार किया है। अब इस विष्व पुस्तक मेले को सही में वैश्विक शक्ल ले चुकी है । इस बार भी कई देशों के प्रकाशक इस पुस्तक मेले में हि्ससा ले रहे हैं ।

अंग्रेजी के प्रकाशकों के बरक्श अब हिंदी के भी बड़े प्रकाशकों ने भी योजनाबद्ध तरीके से पुस्तक मेले में पुस्तकों का प्रकाशन शुरू कर दिया है । विश्व पुस्तक मेले में हिंदी के प्रकाशको के स्टॉल को देखकर संतोष होने लगा है । वहां उनके स्टॉल की साज सज्जा और व्यवस्था देखकर वर्ल्ड क्लास होने का एहसास होता है । दूसरे अब पुस्तक मेले में विमोचनों की होड़ तो रहती है लेकिन इन कार्यक्रमों को अब व्यवस्थित कर दिया गया है । इसके लिए अलग से जगह नियत कर दी गई है ।

विश्व पुस्तक मेले की आयोजन नेशनल बुक ट्रस्ट ने साहित्य मंच बनाकर हर दिन कई घंटे तक विमर्श और साहित्यक चर्चा के लिए मंच भी मुहैया करवा दिया है । इस बार भी पुस्तक मेले में सैकड़ों किताबें रिलीज हो रही हैं । इन दिनों फेसबुक पर इन साहित्यक कार्यक्रमों की जानकारी की बाढ आई हुई है ।

हर तरह के लेखकों की किताबें रिलीज हो रही हैं और तो और एक प्रकाशक ने तो फेसबुक पर प्रकाशित कविताओं का एक संग्रह ही प्रकाशित कर दिया है । इस संग्रह में फेसबुक पर सक्रिय सौ कवियों की कविताओं हैं । हर तरह के आयोजन में कवि और कविता सबसे ज्यादा जगह छेक लेते हैं । कविता है ही ऐसी विधा जो कम स्थान में समाती ही नहीं ।

इस बार पुस्तक मेले में कई युवा लेखकों की किताबों के अलावा कुछ आत्मकथाएं भी प्रकाशित हो रही हैं जिसका हिंदी के पाठकों को इंतजार था । जैसे वाणी प्रकाशन से पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वी के सिंह और सिने सुपर स्टार दिलीप कुमार की आत्मकथा भी प्रकाश्य है । इसी तरह से प्रभात प्रकाशन से पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम मेरी जीवन यात्रा प्रकाशित हो रही है ।

इस बार भी पुस्तक मेले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को केंद्र में रखकर कई किताबें प्रकाशित हो रही है । इस बार पुस्तक मेले में वाणी प्रकाशन एक बेहद नई पहल कर रहा है । वेलेंटाइन डे पर लाल गुलाब देने की वर्षों पुरानी परंपरा से मुठभेड़ करते हुए हे बसंत नाम से एक ऑन लाइन रोमांस फेस्टिवल शुरू हो रहा है । इसका टैग लाइव है वैलेंटाइन पर गुलाब नहीं किताब । यह एक बेहतरीन पहल है जिसका स्वागत किया जाना चाहिए।

अगर उपहार में किताब देने की परंपरा शुरू हो गई तो हिंदी समाज में घट रही पुस्तक संस्कृति को एक जीवनदान मिलेगा । पाठकों को किताबों को ओर लाने में सफलता मिल सकेगी । अगर इस योजना को जनता ने स्वीकार कर लिया तो किताबों के जो संस्करण घटते-घटते तीन सौ तक आ गए हैं उसको बढ़ाने में भी मदद मिलेगी ।

लेकिन यह काम एक दो महीनों का नहीं है इस आंदोलन को महीनों नहीं सालों तक लगातार चलाते रहने की आवश्यकता है । अगर ऐसा हो सकता है तो हम अपनी आनेवाली पीढ़ी को एक बेहतर समाज दे सकेंगे जहां पुस्तकों का एक अहम स्थान होगा।
अनंत  विजय
अनंत  विजय लेखक अनंत विजय वरिष्ठ समालोचक, स्तंभकार व पत्रकार हैं, और देश भर की तमाम पत्र-पत्रिकाओं में अनवरत छपते रहते हैं। फिलहाल समाचार चैनल आई बी एन 7 से जुड़े हैं।

 
stack