Wednesday, 11 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

'स्वच्छ भारत' के लिए खुले में शौच को खत्म करना होगा: जयराम रमेश

'स्वच्छ भारत' के लिए खुले में शौच को खत्म करना होगा: जयराम रमेश बेंगलुरू: यह दावा करते हुए कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ‘स्वच्छ भारत’ महज एक स्लोगन बन गया है और उसे बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया जा रहा है पूर्व केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने आज कहा कि इस कार्यक्रम में खुले में शौच करने की समस्या पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए ।

रमेश ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने स्वच्छता मामलों का मंत्री रहते हुए निर्मल भारत अभियान शुरू किया था और उसका लक्ष्य 10 साल में भारत में खुले में शौच की समस्या को समाप्त करना था ।

भारत में 60 प्रतिशत महिलाएं खुले में शौच करती हैं । आप स्वच्छ भारत प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन शौच खुले में किया जाता है तो, दोनों साथ-साथ नहीं चल सकते ।’

टीएन खोशू मेमोरियल अवार्ड 2014 समारोह से इतर जयराम रमेश ने संवाददाताओं से कहा, ‘भारतीय रेलवे में दुनिया का सबसे बड़ा खुला सीवेज तंत्र है ।

हर साल दो करोड़ भारतीय रेल से यात्रा करते हैं, 50,000 डिब्बे हैं.. और खुला सीवेज ना सिर्फ पर्यावरण के लिए खराब है बल्कि यह सीधे ट्रैक और कोरिडोर पर जाता है जो सुरक्षा के लिहाज से भी खराब है। इससे निपटना निर्मल भारत अभियान का हिस्सा था ।’

उन्होंने कहा, मुझे यह समझ नहीं आता.. स्वच्छ भारत एक अच्छी दार्शनिक चीज है, झाडू उठाओ, बड़े-बड़े लोगों को लाओ और सफाई शुरू कर दो यह दीर्घावधिक की बात है, हमें खुले में शौच को खत्म करना होगा ।
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack