Friday, 13 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

फादर्स डे : पिता अब दोस्त ज्यादा

जनता जनार्दन संवाददाता , Jun 18, 2011, 18:21 pm IST
Keywords: नयी दिल्ली   new delhi   फादर डे   father day   दोस्त   friend   19 जुन   19 june  
फ़ॉन्ट साइज :
फादर्स डे : पिता अब दोस्त ज्यादा

नयी दिल्ली: वह दिन अब हवा हुए जब घर में पिता का रूआब ज्यादा चलता था और बच्चे उनसे काफी खौफ खाते थे। पिता और बच्चों के बीच सिर्फ पढ़ने पढ़ाने तक की ही बातें होती थीं। बच्चे अपनी माँ के द्वारा अपनी माँगें पिता तक पहुंचाते थे, लेकिन आज के नये जमाने में पिता की भूमिका समय के साथ बदली और अपने बच्चों के साथ उनके रिश्तों में काफी हद तक बदलाव आया है।

दोनो के बीच पनपते दोस्ताना रिश्ते जहाँ बच्चे के समग्र विकास में सहायक होते जा रहे हैं वहीं परिवार का माहौल दिनों दिन बेहतर बनाने में सहायक हो रहा हैं।

मैक्स बालाजी में चाइल्ड साइकोलॉजिस्ट डॉ मनप्रीत कहा हैं कि बच्चों के विकास में पिता का मित्रवत व्यवहार और उनका साथ अहम भूमिका निभाता है।

उन्होंने यह भी कहा, ‘‘समय के साथ रिश्तों में काफी बदलाव देखने को मिल रहा है। आजकल माता-पिता दोनों कामकाजी होते जा रहे हैं। ऐसे में पिता की भूमिका और साथ ही उनकी जिम्मेदारियाँ भी बढ़ गई हैं और बच्चों से उनकी नजदीकीयाँ भी बढ़ी है जो बच्चे के समग्र विकास के लिए बहुत ही जरूरी है।’’

डॉ मनप्रीत ने कहा, ‘‘पिता को बच्चों से उनकी पढ़ाई, दोस्तों के बारे में बातें करना चाहिए। इससे उनके संबंध मित्रवत रहेंगे। दरअसल पिता की भूमिका का, उसके संबंधों का परिवार और बच्चे पर काफी प्रभाव पड़ता है। यदि पिता के बच्चों से संबंध दोस्ताना हो तो इससे परिवार का माहौल सकारात्मक बना रहता है और बच्चे के विकास पर भी इसका बहुत ही अच्छा असर पड़ता है।’

’ डॉ मनप्रीत ने कहा, ‘‘संबंधों में और प्रगाढ़ता लाने के लिए पिता को सप्ताहांत पर बच्चों को बाहर भी ले जाना चाहिए, जिसले  उनके साथ उनकी रुचि के अनुसार खेल वगैरह खेलने चाहिए, साथ ही उसके शिक्षकों से मिलना चाहिए इससे परिवार पर पिता की पकड़ मजबूत होगी और बच्चा उनसे खुल कर अपनी सारी बात कर पाएगा।’’

वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack