Wednesday, 18 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

सफलता चाहिए तो काम करें

जनता जनार्दन संवाददाता , May 26, 2011, 11:20 am IST
Keywords: सफलता   काम   कार्य   Success   Work  
फ़ॉन्ट साइज :
सफलता चाहिए तो काम करें नई दिल्ली: किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए प्रयास करने से पहले उस पर विस्तृत विचार-विमर्श करें। आपके कुछ कार्य बहुत अच्छे परिणाम और प्रभाव लाते हैं। आपका ध्यान उन चीजों को करने में होना चाहिए जिससे सबसे ज्यादा प्राप्ति हो। इस प्रकार आप अपनी उत्पादकता को बढ़ा सकते हैं। 80-20 का नियम रखें, यह निरूपित करता है कि 20 प्रतिशत गतिविधि 80 प्रतिशत परिणाम लाती है।

आप जो करते हैं उसके प्रति समर्पित रहना होगा। यह केवल आपके समर्पण का स्तर ही है जो आपकी सफलता की उम्मीद को बढ़ाता है। किसी की भी सफलता का सूचक उसके उद्देश्य के प्रति उसके समर्पण का स्तर होता है। हमेशा ध्यान रखें कि 'क्यों' सदैव 'कैसे' से ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। समर्पण जिसमें उत्साह एवं इच्छाशक्ति दोनों शामिल होते हैं, किसी भी अन्य कमजोरी का ढक देते हैं।

कई लोग बदलाव नहीं चाहते तब भी जब यह उनके हित में हो। एक सामान्य सलाह जो मैंने अपनी नौकरी के दौरान पाई थी वो है, "नाव को हिलाओ-डुलाओ मत नहीं तो तुम डूब जाओगे।" मैंने नाव को हिलाया और नये अपरम्परागत तरीके अपनाये जबकि मुझे सुरक्षित खेल खेलना चाहिए फलत: अन्त में अपने प्रशिक्षिक को बदलाव को लाने से पूर्व यह सुनिश्चित कर लें कि यह पहले वाले से अच्छा होगा।

आपको अपने प्लान से जुड़ा रहना चाहिए मगर साथ ही साथ इन तमाम कवायद में दयालुता नहीं खोनी चाहिए। यही एक भाषा है जिसे गूंगे, बहरे एवं अंधे ही समझ सकते हैं। दूसरों के विचार को जानने के लिए बोलने से ज्यादा सुने। जीवन की क्षमता क्षेत्रों में संतुलन बनाएं। संतुलन अधिकतम सामंजस्य बनाए रखने की क्षमता प्रदान करता है जो हमारी दक्षता को उच्चतम स्तर तक ले जाता है। जीवन में ऊर्जा एवं समय की मांग हो हम इसी क्षमता के आधार पर पूरा कर सकते हैं।

आप इन चीजों की एक सूची तैयार कीजिए जिनको ठीक करने की जरूरत है। यदि आप क्षेत्र में भी अनियमित है तो अन्य क्षेत्रों में भी आप पिछड़े महसूस करेंगे।

उन क्षेत्रों को खोजिए जिन पर आपका सर्वाधिक नियंत्रण है। इस बात की पड़ताल कीजिए कि आप जिन चीजों पर आया समय व्यतीत कर रहे हैं वह उपयुक्त है या नहीं। अपनी पूंजी एवं ऋण को समझें एवं जांचे कि क्या आपको ऋण आपको पीछे की ओर धकेल रहा है और क्या आप अपनी सारी पूंजी लक्ष्य की ओर लगा रहे हैं।

आप अपनी आरामदायक स्थिति में अच्छी तरह काम करते होंगे, मगर यह काफी नहीं है। जीवन में आगे बढ़ने के लिए अपने आपको चुनौती देना बहुत जरूरी है।
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack