Thursday, 22 August 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

दिल्ली गैंगरेप: नाराज गृहमंत्री कर सकते हैं बड़ा एलान

दिल्ली गैंगरेप: नाराज गृहमंत्री कर सकते हैं बड़ा एलान नई दिल्ली: दिल्ली गैंगरेप और उसके बाद की परिस्थितियों से निपटने के तरीके से नाराज गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे के समक्ष दिल्ली के उपराज्यपाल तेजिंदर खन्ना, पुलिस आयुक्त नीरज कुमार व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की पेशी हुई। दिल्ली पुलिस के बड़े अधिकारियों पर गाज गिरने की आशंका के बीच इस बैठक को अहम माना जा रहा है। इस संबंध में शिंदे गुरुवार को बड़ा एलान कर सकते हैं।

इससे पहले मुख्यमंत्री शीला दीक्षित भी शिंदे से मिलीं। दिल्ली गैंगरेप की वारदात के बाद पहली बार शिंदे से मुलाकात के बाद शीला दीक्षित ने कहा कि दिल्ली पुलिस को आम लोगों के साथ मित्रवत होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि लोग अपनी चुनी हुई सरकार से कार्रवाई की उम्मीद करते हैं। चूंकि दिल्ली पुलिस मेरे अधिकार क्षेत्र में नहीं है, इसीलिए मैं यह जानने आई थी कि दिल्ली को सुरक्षित बनाने के लिए क्या-क्या कदम उठाए गए हैं।

ध्यान देने की बात है कि 16 दिसंबर को सामूहिक दुष्कर्म की वारदात के बाद शीला और शिंदे की यह पहली मुलाकात थी। इसके पहले शीला दीक्षित पीड़ित लड़की के बयान दर्ज करने में पुलिस अधिकारियों की दखलअंदाजी की उच्च स्तरीय जांच की मांग कर चुकी हैं।

उनके बेटे व सांसद संदीप दीक्षित दिल्ली पुलिस आयुक्त नीरज कुमार को हटाने की मांग कर चुके हैं। शीला दीक्षित के बाद उपराज्यपाल और दिल्ली पुलिस आयुक्त वरिष्ठ अधिकारियों के साथ सुशील कुमार शिंदे से मिलने पहुंचे। वैसे तो तेजिंदर खन्ना और शिंदे दोनों ने कहा कि बैठक में दिल्ली में सुरक्षा के लिए उठाए गए कदमों की समीक्षा की गई।

लेकिन उच्चपदस्थ सूत्रों की मानें तो गृहमंत्री ने पूरे मामले में दिल्ली पुलिस के रवैये से अपनी नाराजगी साफ जता दी। बैठक से निकले नतीजे के बारे में पूछे जाने पर शिंदे ने कहा कि गुरुवार को मासिक प्रेस कांफ्रेंस में वह अहम घोषणा करेंगे।

दूसरी ओर मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने बुधवार को संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से भी मुलाकात की।

दिल्ली में गैंगरेप की वारदात के बाद पैदा हुए माहौल और एक पखवाड़े तक शहर में जारी रहे धरना-प्रदर्शनों के बाद सूबे की मुख्यमंत्री की संप्रग अध्यक्ष अथवा प्रधानमंत्री से इस मुलाकात को महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

पार्टी के आला नेताओं से दीक्षित की इस मुलाकात को अगले सप्ताह होने वाले चिंतन शिविर से भी जोड़कर देखा जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि दीक्षित 15 जनवरी से ही इस शिविर के आयोजन की तैयारियों के सिलसिले में जयपुर जा सकती हैं।
अन्य दिल्ली, मेरा दिल लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack