Saturday, 19 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

केकेआर की मुंबई पर धमाकेदार जीत

केकेआर की मुंबई पर धमाकेदार जीत मुंबई: मनोज तिवारी की उम्दा पारी के बाद सुनील नरेन की फिरकी के जादू से कोलकाता नाइट राइडर्स हार के क्रम को तोड़ते हुए बुधवार को यहां मुंबई इंडियंस को 32 रन से हराकर आईपीएल प्ले ऑफ में जगह पक्की करने वाली दूसरी टीम बनी।

पिछले दो मैचों में शिकस्त झेलने वाले कोलकाता ने मनोज तिवारी की 41 रन की धैर्यपूर्ण पारी की मदद से सात विकेट पर 140 रन बनाए। इसके बाद नरेन (15 रन पर चार विकेट) की बलखाती गेंदों के सामने मुंबई की टीम नियमित अंतराल पर विकेट गंवाते हुए 19.1 ओवर में 108 रन पर ढेर हो गई।

नरेन आईपीएल पांच में सर्वाधिक विकेट चटकाने वाले गेंदबाज भी बन गए। उनके मलिंगा और मोर्कल के बराबर 21-21 विकेट हैं। केकेआर की ओर से लक्ष्मीपति बालाजी ने किफायती गेंदबाजी करते हुए चार ओवर में सिर्फ 11 रन देकर दो विकेट हासिल किए। कैलिस ने भी 32 रन देकर दो विकेट चटकाए।

मुंबई की ओर से सचिन तेंदुलकर ने सर्वाधिक 27 रन बनाए जबकि दिनेश कार्तिक ने 20 रन की पारी खेली। इस जीत के साथ कोलकाता 15 मैचों में 19 अंक जुटाकर दूसरे स्थान पर पहुंच गया और प्ले ऑफ में अपनी जगह भी पक्की कर ली।

मुंबई इंडियंस के 15 मैचों में 18 अंक है और वह तीसरे स्थान पर मौजूद है लेकिन टीम अगर मगर के फेर में पड़ सकती है। मुंबई को तेंदुलकर और हर्शल गिब्स (13) ने सधी शुरुआत दिलाई। दोनों ने छह ओवर में 26 रन जोड़े। तेंदुलकर लय में दिखे लेकिन गिब्स ने धीमी बल्लेबाजी की। इकबाल अब्दुल्ला ने गिब्स को पगबाधा आउट करके इस साझेदारी को तोड़ा।

तेंदुलकर और कार्तिक ने इसके बाद पारी को आगे बढ़ाया। कार्तिक ने कैलिस पर लगातार दो चौके जड़कर खाता खोला जबकि तेंदुलकर ने इसी गेंदबाज पर छक्का मारा। तेंदुलकर हालांकि अपनी पारी को लंबा नहीं खींच पाए। नरेन ने उन्हें बोल्ड किया। उन्होंने 24 गेंद का सामना करते हुए तीन चौके और एक छक्का लगाया।

बालाजी ने इसके बाद कार्तिक को फाइनल लेग में यूसुफ पठान के हाथों कैच कराकर मुंबई को तीसरा झटका दिया। मुंबई को अंतिम छह ओवर में जीत के लिए 64 रन की जरूरत थी। साकिब ने ऐसे में मुंबई की पिछली जीत के हीरो अंबाती रायुडू (11) को ब्रैंडन मैकुलम के हाथों स्टंप कराकर मेजबान टीम की मुश्किलें बढ़ा दी।

कीरोन पोलार्ड (08) ने आते ही साकिब पर चौका जड़ा लेकिन कैलिस ने उन्हें विकेट के पीछे कैच करा दिया। कैलिस ने अगली गेंद पर डवेन स्मिथ को भी पगबाधा आउट किया। हरभजन सिंह (01) भी नरेन की गेंद पर लांग ऑन पर तिवारी को कैच थमाकर पवेलियन लौटे। नरेन ने इसके बाद इसी ओवर में कोलकाता के खिलाफ पिछले मैच में नाबाद शतक जड़ने वाले रोहित शर्मा (12) को मैकुलम के हाथों कैच कराकर ताबूत में अंतिम कील ठोकने का काम किया।

इससे पहले केकेआर की शुरुआत खराब रही और उसने सिर्फ छह रन पर दो विकेट गंवा दिए थे। तिवारी के अलावा सिर्फ कप्तान गौतम गंभीर (28) और यूसुफ पठान (नाबाद 21) ही टिककर बल्लेबाजी कर पाए।

मुंबई के कप्तान हरभजन सिंह ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और आरपी सिंह ने इस फैसले को सही साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने पारी के दूसरे ओवर की दूसरी गेंद पर ही ब्रैंडन मैकुलम (01) को पगबाधा आउट कर दिया लेकिन अंपायर का यह फैसला संदिग्ध रहा। आरपी सिंह ने अगली गेंद पर कैलिस (00) का ऑफ स्टंप भी उखाड़ दिया।

गंभीर भी आरपी सिंह के अगले ओवर में भाग्यशाली रहे जब ऑफ साइड से बाहर की गेंद को स्लैश करने की कोशिश में हवा में खेल गए लेकिन थर्ड मैन बाउंड्री पर सचिन तेंदुलकर ने कैच छोड़ दिया और गेंद छह रन के लिए चली गई।

तिवारी ने काफी धीमी शुरुआत की जिससे गंभीर पर दबाव बन गया और वह कीरोन पोलार्ड की गेंद को लेग साइड पर खेलने की कोशिश में अपना ऑफ स्टंप गंवा बैठे। केकेआर की टीम 10 ओवर में सिर्फ तीन विकेट पर 54 रन ही बना सकी।

तिवारी ने इसके बाद रन गति बढ़ाने पर ध्यान दिया। उन्होंने पोलार्ड पर लगातार दो चौके जड़ने के बाद हरभजन सिंह और लसिथ मलिंगा पर छक्के जड़े। साकिब अल हसन (13) हालांकि प्रभावी शुरुआत के बाद डवेन स्मिथ की गेंद को विकेटों पर खेलकर पवेलियन लौटे।

तिवारी भी इसके बाद मुनाफ की गेंद को उठाकर मारने की कोशिश में हवा में लहरा गए और मलिंगा ने लांग ऑफ से दौड़ लगाते हुए आसान कैच लपका। तिवारी ने 43 गेंद का सामना करते हुए दो चौके और इतने की छक्के मारे।

निचले क्रम में केकेआर के तारणहार साबित होते रहे देवब्रत दास भी सिर्फ दो रन बनाने के बाद रन आउट होकर पवेलियन लौटे। पठान, रजत भाटिया (सात गेंद में 12 रन) और सुनील नरेन (छह गेंद में नाबाद 09) ने इसके बाद टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

आरपी सिंह मुंबई के सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 33 रन देकर दो विकेट चटकाए। मुनाफ पटेल ने किफायती गेंदबाजी करते हुए चार ओवर में सिर्फ 17 रन देकर एक विकेट हासिल किया।
अन्य क्रिकेट लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack