Wednesday, 25 November 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खास लोग
  • खबरें
  • लेख
93 साल के हुए आडवाणी, घर जाकर पीएम मोदी ने खिलाया केस जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 08, 2020
2002 से 2004 के बीच अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में लाल कृष्ण आडवाणी भारत के सातवें उप प्रधानमंत्री रहे. वहीं 1998 से 2004 के दरम्यान वह बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में गृहमंत्री का भी पद संभाल चुके हैं. यकीनन भारतीय जनता पार्टी की नींव रखने में लाल कृष्ण आडवाणी का योगदान बहुमूल्य है. 10वीं और 14वीं लोकसभा में वह विपक्ष के नेता की भूमिका में रहे. राजनीतिक करियर की शुरूआत लाल कृष्ण आडवाणी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से की थी. 2015 में भारत के दूसरे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से भी वह सम्मानित किये जा चुके हैं. ....  समाचार पढ़ें
प्रभाष जी की पुण्यतिथि पर, गौरव! मालवे में तुम होते ''गऊ रब'' गौरव अवस्थी ,  Nov 05, 2020
प्रभाष जोशी जी आज होते तो 85 वे वर्ष में प्रवेश कर रहे होते. 11 बरस हो गए आज ही के दिन काल के क्रूर हाथों में  विरल-सरल सहज-स्वभाव के प्रभाष जी को हम सबसे  छीन लिया. प्रभाष जी हिंदी के ऐसे श्रेष्ठ पत्रकार थे जिनका नाम भारतीय भाषा के देश के श्रेष्ठ 10 पत्रकारों में गिना जाता है. बात याद आती है, महाप्रयाण के 2 वर्ष पहले वर्ष 2007 में रायबरेली आगमन की. हम सब ने आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी युग प्रेरक सम्मान उन्हें समर्पित करने का संकल्प लिया. इस संकल्प को "सिद्ध" प्रभाष जी ने रायबरेली पधार कर किया था. लखनऊ एयरपोर्ट पर हम लोग उन्हें लेने गए. "मालवा के  मान" माने जाने वाले प्रभाष जी इनसाइक्लोपीडिया तो थे ही चलती फिरती पाठशाला भी थे. ....  समाचार पढ़ें
तीसरी पुण्यतिथी पर याद की गई समाजसेविका विंध्यवासिनी देवी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 22, 2020
सासाराम।नेशनल सीनियर सिटीजन एसोसिएशन के दिवंगत पूर्व सदस्या व समाजसेविका विंध्यवासिनी देवी की तीसरी पुण्यतिथी पर याद कर उन्हें श्रधांजलि दी गई। वक्ताओं ने उनके तैलचित्र पर पुष्प अर्पित कर उनके व्यक्तिव व कृतित्व पर प्रकाश डाला।स्व.विंध्यवासिनी देवी समाजिक सरोकार वाली महिला थी। वे हमेशा यथासम्भव गरीबों की मदद करती रहती थी। रोहतास जिले के चेनारी प्रखंड के पांडे ....  समाचार पढ़ें
तेरे दर्द से दिल आबाद रहा, कुछ भूल गए कुछ याद रहा, अलविदा ऋषि कपूर जनता जनार्दन संवाददाता ,  Apr 30, 2020
हिंदी सिनेमा के मशहूर अदाकार ऋषि कपूर का मुंबई के चंदनवाड़ी शमशान घाट पर इलेक्ट्रिक शवदाह गृह में अंतिम संस्कार हुआ. उनके बेटे और अभिनेता रनबीर कपूर ने अंतिम संस्कार की सारी प्रक्रिया निभाई. लॉकडाउन की वजह से पुलिस ने अंतिम संस्कार में कुछ बेहद करीबी लोगों को ही शामिल होने की इजाज़त दी. ऋषि कपूर की बेटी रिद्धिमा कपूर दिल्ली में हैं, इस वजह से वो अपने पिता के आखिरी दर्शन नहीं ....  समाचार पढ़ें
बिहार केशरी श्री कृष्ण सिंह के अधूरे सपनों को साकार करने से आखिर कबतक कतराएंगे हमलोग गोपाल जी राय, वरिष्ठ पत्रकार व लेखक ,  Jan 30, 2020
हान स्वतंत्रता सेनानी 'बिहार केसरी' डॉ. श्रीकृष्ण सिन्हा उर्फ श्री बाबू भारतीय राजनीति में किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। उन्हें आधुनिक बिहार का निर्माता कहा जाता है। उनका जन्म वर्ष 1887 में हुआ था। उन्होंने वर्ष 1961 तक आजीवन बिहार की सेवा की और समकालीन भारतीय राजनीति के दैदीप्यमान राजनेता बने रहे। वह भारत के अखंड बिहार राज्य के प्रधानमंत्री व प्रथम मुख्यमंत्री थे। उनका कार्यकाल 1946 से 1961 तक था। ....  समाचार पढ़ें
तीसरी पुण्यतिथि पर याद किये गए शिवनारायण यादव जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 22, 2020
सासाराम।रोहतास जिले के राजनैतिक सन्त,यादव महासभा,नेशनल सीनियर सिटीजन एसोसिएशन, कांग्रेस पार्टी,बीपी स्मृति संस्थान सहित कई संगठनों के माध्यम से समाज को अपनी सेवा दे चुके पूर्व प्रधानाध्यापक स्व.शिवनारायण सिह यादव (गुरुजी) की तीसरी पुण्यतिथि पर याद कर उन्हें श्रधांजलि दी गई।विभिन संगठनों ने कार्यक्रम का आयोजन कर उनके व्यक्तित्व व कृतित्व को याद किया।नेशनल सीनियर सिटीजन एसोसिएशन के विशेष कार्यालय में सुग्रीव प्रसाद सिंह की अध्यक्षता व सत्यनारायण स्वामी के संचालन में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रीय महासचिव रामायण पां ....  समाचार पढ़ें
नरवन का लाल प्रिंस कुमार राय कलपक्कम में बना सहायक वैज्ञानिक अमिय पाण्डेय ,  Jan 16, 2020
कौन कहता है कि आसमां में सुराख नही होता एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो जिहा यह सटीक कहावत बैठता है नरवन के लाल  प्रिंस कुमार राय पर किसी भी इंसान के अंदर अगर लगन और मेहनत हो तो किसी भी लक्ष्य को हासिल करना नामुमकिन नहीं होता। इस बात को चंदौली जिले के बरहनी विकास खण्ड के भैंसा गांव निवासी प्रिंस कुमार राय ने साबित कर दिखाया है। देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक इंदिरा गांधी सेंटर फॉर एटॉमिक रिसर्च सेंटर, कलपक्कम, चेन्नई में सहायक वैज्ञानिक बनकर जिले का नाम रौशन किया है। ....  समाचार पढ़ें
लोकबंधु राजनारायण के समाजवादी सरोकारों की प्रासंगिकता आज भी है बरकरार गोपाल जी राय ,  Dec 30, 2019
अपने ही चाहने वालों के निज स्वार्थपरक फितरतों से समाजवादी राजनीति इतनी क्षत-विक्षत हो जाएगी, शायद समाजवादी नेताओं ने इसकी परिकल्पना कभी भी नहीं की होगी। लेकिन विचारों की जगह समीकरण साधने वाली राममनोहर लोहिया की  सियासत से समाजवादी विचारधारा के दो डग आगे बढ़ने, फिर चार डग पीछे जाने का जो सिलसिला देखा जा रहा है, उस वैचारिक धुंध में समाजवाद के प्रति लोकबंधु राजनारायण के विचारों, कर्मों और जनसरोकारों को आदर्श मानकर आगे बढ़ा जाए तो न केवल बिखरे हुए समाज और सम्प्रदाय को पुनः एकीकृत किया जा सकता है, बल्कि उन जैसे आदमकद समर्थ भारत का निर्माण भी मुश्किल नहीं होगा। ....  समाचार पढ़ें
लता मंगेशकर की सेहत में हो रहा है सुधार, पूरी तरह से ठीक होने‌ पर होंगी डिस्चार्ज जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 13, 2019
लता मंगेशकर परिवार की भतीजी रचना ने बताया कि उनकी तबीयत पहले से बेहतर और स्थिर है. उन्होंने आगे जानकारी देते हुए बताया कि लता मंगेशकर की तबीयत में लगातार सुधार हो रहा है और वो अच्छे से रेस्पॉन्ड कर रही हैं. उन ....  समाचार पढ़ें
राकेश रौशन इंडियन रियल हीरोज अवार्ड से हुए सम्मानित अमिय पाण्डेय ,  Nov 10, 2019
जिले के मतदाता जागरूकता अभियान के ब्रांड अम्बेसडर और सामाजिक संस्था रौशन फाउंडेशन के संस्थापक राकेश यादव रौशन को इंडियन रीयल हीरोज अवार्ड से सम्मानित किया गया। यह सम्मान उन्हें नई दिल्ली की संस्था एआर फाउंडेशन और वाराणसी की संस्था अनमोल सेवा समिति द्वारा बीएचयू के समता भवन में आयोजित एक  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि आकाशवाणी वाराणसी ....  समाचार पढ़ें
अग्निवेश: शांत हो जाना वैचारिक अग्नि की एक सम्मोहक लपट का  त्रिभुवन ,  Sep 12, 2020
अग्निवेश एक अलग तरह के साधु और एक विलक्षण तरह कर सामाजिक नेता थे। उनके व्यक्तित्व में सम्मोहन और उनकी भाषा में एक आज था। वे विवादास्पद भी थे। वे विवादों को निमंत्रित भी करते थे। लेकिन सच में वे मुक्तिवादी और साम्यकामी थे। उनकी उपस्थिति विरोधियों को परेशान करती थी। वे जिज़ समय जीवन के आख़िरी क्षणों में थे, तब कथित हिंदुत्ववादी लोगों ने उन पर अपमानजनक हमला किया। वृद्धों और साधुओं के प्रति सदैव करुणा और दयाशील सनातन धर्म में ऐसा भी संभव है, यह कल्पना से परे है। लेकिन इस दौर में हर असंभव संभव है। अग्निवेश का अपना आर्यसमाज आज दयानन्द सरस्वती के दर्शन से परे भटकता हुआ शीर्षासन मुद्रा में है और पाखंडों का रणसिंघा फूँक रहे जड़मूर्तिपूजकों की उंगली थामे खड़ा है। उसका तेज, तर्क और ....  लेख पढ़ें
स्वामी सहजानन्द सरस्वती: आखिर वर्तमान क्यों नहीं गढ़ पा रहा किसानों का ऐसा मसीहा? गोपाल जी राय/वरिष्ठ पत्रकार और स्तम्भकार ,  Feb 20, 2020
कहते हैं कि वर्तमान में ही इतिहास गढ़ा जाता है। लेकिन यह कैसी विडंबना है कि समकालीन वर्तमान अपने धवल अतीत को पुनः गढ़ पाने में असहाय प्रतीत होता है। यह कौन नहीं जानता कि अमूमन इतिहास खुद को दुहराता है, लेकिन स्वामी सहजानन्द सरस्वती का व्यक्तित्व और कृतित्व अब तक अपवाद स्वरूप है। आगे क्या होगा भविष्य के गर्त में है, पर वर्तमान को उनकी याद सताती है। भले ही उनको गुजरे जमाने हो गए, फिर भी इतिहास खुद को दुहरा नहीं पाया! जबकि लोगबाग बे ....  लेख पढ़ें
मैलानी आश्रम अघोरियों के लिए शक्ति प्रतिष्ठित नीरज वर्मा ,  Nov 15, 2018
ये सब बहुत कुछ आपकी आंतरिक पवित्रता व अध्यात्मिक सामर्थ्य पर निर्भर है । ये स्थान आने वाले दिनों में क्रमशः एक महान शक्तिपीठ के रूप में स्थापित होने की संभावनाओं को दरकिनार नहीं करता है । और न ही आम जनमानस की लौकिक और आध्यात्मिक जगत की पारलौकिक लालसाओं की पूर्ति से इनकार करेगा । ....  लेख पढ़ें
ऐसे दौर में अरुण कुमार जैसे पुलिस अफसर के किसी सुरक्षा बल का मुखिया होने के मायने जय प्रकाश पाण्डेय ,  Oct 03, 2018
आईपीएस का प्रशिक्षण पूरा करने के बाद मुगलसराय की सर्किल ऑफिसर की पहली नियुक्ति से शुरू हुए 1985 बैच के आईपीएस अधिकारी अरुण कुमार का तेवर अभी भी थमा नहीं है. दबंग, भ्रष्ट, देश के दुश्मनों और कामचोरों पर उनके चाबुक की धमक जहां भी रहें सुनाई पड़ ही जाती है. संतोष की बात यह कि यह सफर अभी जारी रहना है. ....  लेख पढ़ें
डॉ. संजय गुप्ताः लाखों चेहरों पर मुस्कान बिखेरने वाले 'खुशहाली गुरु'  अमिय पाण्डेय ,  Sep 27, 2018
वह बाबा भोलेनाथ के भक्त हैं और काशी में रहते हैं. बाबा हर हर महादेव उनके लिए मंत्र वाक्य से कहीं अधिक है. वह किसी शिव मंदिर के पुजारी नहीं, पर किसी शिवभक्त से कम नहीं. स्वभाव से मस्त और अपने हुनर के माहिर, इतने कि बिगड़े से बिगड़ा केस इनके छूने भर से ठीक. हम बात कर रहे हैं खुशहाली गुरु के नाम से प्रसिद्ध डॉ संजय गुप्ता की ....  लेख पढ़ें
यादेंः अटल थे, अटल हैं, अटल रहेंगे! राजशेखर व्यास ,  Aug 17, 2018
वे साधारण परिवार में जन्मे, साधारण से प्राइमरी स्कूल में पढ़े और साधारण से प्राइमरी स्कूल टीचर के बच्चे हैं। उनके पिता का नाम था कृष्णबिहारी वाजपेयी और दादा थे पंडित श्यामलाल वाजपेयी। उन्होंने सारे देश के सामने एक बार कहा था- 'मैं अटल तो हूं पर 'बिहारी' नहीं हूं। ....  लेख पढ़ें
अवध से था ऐसा लगाव कि लखनऊ की जनता के दिल पर राज करते थे अटल जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी वर्ष 1991 से 2004 तक लगातार लखनऊ से सांसद चुने गए। उनका उत्तर प्रदेश की राजधानी से गहरा नाता रहा। वह एक कुशल राजनेता, कवि, प्रखर वक्ता और पत्रकार के रूप में राजनेताओं और जनता के बीच लोकप्रिय रहे और उन्होंने हमेशा लखनऊवासियों के दिल पर राज किया। ....  लेख पढ़ें
वाजपेयी ने मौत की आंखों में झांककर लिखी थी कविताएं जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी जितने राजनेता के रूप में सराहे गए उससे कहीं ज्यादा अपनी कविताओं के लिए चर्चित रहे। वाजपेयी ने कई दफे अभिव्यक्ति के लिए कविता को माध्यम बनाया। वर्ष 1988 में जब वह किडनी के इलाज के लिए अमेरिका गए तो प्रसिद्ध साहित्यकार धर्मवीर भारती को पत्र लिखा। ....  लेख पढ़ें
ठंडाई और भांग के बीच अटल और बनारस, एक अलहदा नाता उत्पल पाठक ,  Aug 17, 2018
काशी के अटल या बनारस के अटल में अगर समानताएं हैं तो भिन्नता भी उतनी ही हैं. काशी के अटल बीजेपी और संघ के अटल हैं. हिंदुत्व और कट्टरवाद के अटल हैं. लेकिन बनारस के अटल ठंडाई और पान के अटल हैं. वे जमीन पर बैठ कर पंगत में खाने वाले, रिक्शे पर बैठ कर रात में शहर को नापने वाले और इस शहर की समाजवादी और गैर राजनीतिक छवि को अपने भीतर घोलने के बाद खुल कर ठठा कर हंसकर जीने वाले अटल हैं. ....  लेख पढ़ें
गुरु गोलवलकर ने इंदिरा को कहा था 'दुर्गा', अटल ने बस दोहराया था जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
सन् 1971 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साहस की सराहना करते हुए उन्हें 'दुर्गा' कहा था तो उनके ही दल के लोगों ने इसकी कड़ी आलोचना की थी, मगर यह कम लोगों को पता होगा कि इंदिरा गांधी को तो यह उपमा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक गुरु गोलवरकर ने दी थी, अटल ने तो उसे सिर्फ दोहराया था। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल