Wednesday, 23 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
स्वास्थ्य
  • खबरें
  • लेख
हार्ट फेल रोकने के लिए आई नई डिवाइस जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 18, 2019
अनियमित खानपान, हाई बीपी और डायबीटीज से अगर दिल इतना कमजोर हो जाए कि वह शरीर को खून की सप्लाई न कर सके तो घबराने की जरूरत नहीं है। अमेरिकी फूड ऐंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने ....  समाचार पढ़ें
Health News: गुड़-चना खाएं, हड्डियों से नहीं आएगी आवाज जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 18, 2019
अगर आपकी हड्डियों से कट-कट की आवाज आ रही हो तो आपको इसे गंभीरता से लेना होगा क्योंकि यह हड्डियों से जुड़ी गंभीर बीमारी का लक्षण है। जोड़ों से आने वाली इस प्रकार की आवा ....  समाचार पढ़ें
बिहार: चमकी बुखार से अब तक 69 बच्चों की मौत जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jun 15, 2019
बिहार में मुजफ्फरपुर और उसके आस-पास के इलाके में चमकी बुखार का प्रकोप जारी है. इससे मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर 69 हो गई है. बिहार के मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन डॉ. शैलेष प्रसाद सिंह ने इस बात की जानकारी दी.शैलेष प्रसाद सिंह ने बताया, 'अक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम यानि चमकी बुखार के चलते अब तक 69 बच्चों की मौत हो चुकी है. इनमें से 58 ब ....  समाचार पढ़ें
गर्मी का पारा लगातार बढ़ रहा है, ऐसे बचे रहेंगे हीट स्ट्रोक से? जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 12, 2019
हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआइे) के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. के.के. अग्रवाल का कहना है कि गर्मियों में अत्यधिक पसीना आने के कारण वयस्कों में पानी की आवश्यकता 500 मिलीलीटर तक बढ़ जाती है. ये टाइफाइड, पीलिया और दस्त का मौसम भी है. इसके कुछ कारणों में पर्याप्त मात्रा में पानी न पीना और खराब भोजन, पेयजल और हाथों की स्वच्छता न रखना शामिल है. ....  समाचार पढ़ें
मनोहर पर्रिकर की मौत की वजह बना पैंक्रियाटिक कैंसर, जानें इसके लक्षण और बचाव जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 22, 2019
भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता, गोवा के मुख्यमंत्री और देश के पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का 17 मार्च की शाम पैंक्रियाटिक कैंसर के कारण निधन हो गया. 63 साल के मनोहर काफी लंबे समय से इस कैंसर से जूझ रहे थे. ऐसे में आज हम आपको बता रहे हैं पैंक्रियाटिक कैंसर क्या है, इसके लक्षण क्या हैं और इससे बचाव कैसे किया जा सकता है ....  समाचार पढ़ें
ब्वॉयफ्रेंड के साथ संबंध बनाते ही इस लड़की को हो गई एलर्जी, जानें क्या हुआ जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 22, 2019
कई बार सेक्सुअल एक्ट जानलेवा हो जाते हैं. बहुत से लोगों को संबंध बनाने के दौरान एलर्जी हो जाती है तो बहुत से लोगों के साथ ऐसी घटना घटती है कि उन्हें तुरंत हॉस्पि‍टल ले जाना पड़ता है. इस मामले में भी कुछ ऐसा ही हुआ है. ....  समाचार पढ़ें
प्रोस्टेट कैंसर के खतरे से बचने के लिए पीएं कॉफी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 22, 2019
सुबह का बेहतरीन पेय होने के साथ ही कॉफी प्रोस्टेट कैंसर को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है, जिससे दवा-प्रतिरोधी कैंसर का इलाज मिल हो सकता है. जापान के कनाजावा विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने कहविओल एसिटेट और कैफेस्टोल तत्वों की पहचान की है, जो प्रोस्टेट कैंसर की वृद्धि को रोक सकते हैं. ....  समाचार पढ़ें
हेल्थ इंश्योरेंस प्लान अब खरीदना भी हुआ बेहद आसान जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 01, 2019
कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि हेल्थ इंश्योरेंस जहां हर व्यक्ति के लिए बेहद जरूरी है, वहीं इसे खरीदना भी अब बेहद आसान हो गया है. सभी लोग अपने प्रियजनों की सेहत के लिए सुरक्षा जरूर चाहते हैं, लेकिन पहले हेल्थ इंश्योरेंस प्लान खरीदने में जो कुछ दिक्कतें थी, उनकी वजह से कई लोग इसे नजरअंदाज भी कर जाते थे. लेकिन अब सब कुछ ऑनलाइन हो जाने से चीजें बहुत आसान हो गई है. तो देर किस बात की, अपने और अपने प्रियजनों की सेहत की सुरक्षा आज ही हासिल करें. ....  समाचार पढ़ें
फेफड़े के कैंसर के इलाज में ये थेरपी है कारगर जनता जनार्दन संवाददाता ,  Feb 20, 2019
आंकड़ों के आधार पर डॉ. बत्रा ने बताया कि फेफड़े का कैंसर होने की औसत आयु 54.6 वर्ष है और फेफड़ों के कैंसर के अधिकांश रोगियों की आयु 65 वर्ष से अधिक है. इसमें यह भी ध्यान देने की बात है कि फेफड़े के कैंसर के मामले में पुरुष-महिला अनुपात 4.5 :1 है. उम्र और धूम्रपान के असर से पुरुषों में खतरा और ज्यादा बढ़ जाता है. ....  समाचार पढ़ें
ट्रांस फैट से 23% तक बढ़ जाता है दिल के रोगों का खतरा, हर साल मरते हैं 5 लाख से ज्यादा लोग जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 06, 2019
तेल और घी में बने लगभग सभी फूड्स में ट्रांस फैट की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। फ्रेंच फ्राइज, बर्गर, पिज्जा, केक, कुकीज, बिस्किट, क्रीम कैंडीज, डोनट्स और फास्ट फूड्स शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक होते हैं क्योंकि इनमें काफी मात्रा में ट्रांस फैट होता है। वहीं घर में बने आहार जैसे- पूड़ी, पराठा, भटूरे, सब्जियां या तली-भुनी चीजें खाते हैं, तो भी आपके शरीर में ट्रांस फैट जमा होता है। ये ट्रांस फैट दिल की बीमारियों की संभावना को 23% तक बढ़ा देते हैं। सबसे ज्यादा ट्रांस फैट वनस्पति तेलों और घी में पाया जाता है। ट्रांस फैट खाद्य पदार्थों के जरिए शरीर में पहुंचकर रक्त धमनियों के ब्लॉकेज का कारण बनता है। ....  समाचार पढ़ें
धुम्रपान दुनिया भर में दिल की बीमारियों की दूसरी सबसे बड़ी वजह है जनता जनार्दन डेस्क ,  May 31, 2018
तंबाकू का धुंआ आपके शरीर के साथ क्या कर सकता है, आप इसकी कल्पना भी नहीं कर सकते हैं. आज पूरी दुनिया विश्व तंबाकू निषेध दिवस मना रही है और लोग इससे दूर रहने की जगह-जगह नसीहत दे रहे हैं, क्योंकि तंबाकू बीमारियों की जड़ है. ....  लेख पढ़ें
निपाह वायरस का खतराः डरें नहीं, साफसफाई की आदत अपना लें प्रभुनाथ शुक्ल ,  May 28, 2018
निपाह वायरस के खतरे को लेकर पूरा देश दहशत में है. इसकी वजह है कि हम जमींनी स्तर पर संक्रमित बीमारियों से निपटने के लिए कोई दीर्घकालिक समाधान नहीं ढूंढते हैं। सिर्फ बयानबाजी से काम चलाने की आदत पालते हैं। ....  लेख पढ़ें
डायबिटीज एक नहीं पांच अलग-अलग रोग है, जिसके लिए इंसुलिन जरूरी नहीं जनता जनार्दन डेस्क ,  Mar 03, 2018
डायबिटीज को लेकर दुनियाभर में शोध जारी है. योरोप में हुए नए शोध के मुताबिक डायबिटीज केवल एक रोग नहीं, बल्कि कई रोगों का मिला-जुला रूप है. इसी तरह डायबिटीज के इलाज के मामले में भारतीय डॉक्टरों ने भी एक महत्वपूर्ण खोज की है, जिसकी दुनियाभर में चर्चा है. ....  लेख पढ़ें
नारियलः रखे आपको चुस्तदुरुस्त, चमकाए त्वचा और हों घने-लंबे बाल जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 02, 2018
नारियल एक बहुत ही उपयोगी और महत्त्वपूर्ण फल है. यह जितनी ऊँचाई पर लगता है, उतने ही अधिक इसके गुण भी है. नारियल का उपयोग फल के रूप में, तेल के रूप में, नारियल दूध में और कई प्रकर के व्यंजन बनाने में किया जाता है. साथ ही साथ पूजन आदि कार्य में भी इसका महत्त्व है. बिना श्रीफल (नारियल) के कलश नहीं रखा जाता. समारोह में व्यक्ति के सम्मान में भी श्रीफल देने का महत्त्व हैं. ....  लेख पढ़ें
मधुमेह: जानें कारण, लक्षण, सावधानी और बचाव के उपाय जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 14, 2017
उचित व्यायाम, आहार और शरीर के वजन पर नियन्त्रण बनाए रखकर मधुमेह को नियन्त्रित रखा जा सकता है। अगर मधुमेह पर ठीक से नियन्त्रण न रखा जाए तो मरीज में दिल, गुर्दे, आंखें, पैर एवं तंत्रिका संबंधी कई तरह की बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है। मधुमेह मेटाबोलिक बीमारियों का एक समूह है, जिसमें व्यक्ति के खून में ग्लूकोज (ब्लड शुगर) का स्तर सामान्य से अधिक हो जाता है। ....  लेख पढ़ें
हंसें, कि हंसने के हैं कई लाभ, स्वास्थ्य लाभ केवल एक जनता जनार्दन डेस्क ,  Sep 09, 2017
खुल के हँसो, ज़ोरदार हँसो क्योंकि हँसने से सकारात्मक सोच बढ़ती है। हँसी को हम उस असरदार दवा की तरह मानते हैं, जो दुखों और घावों को ठीक करने में सबसे ज़्यादा असरकारक है। हँसने के कारण आपकी सोच सकारात्मक हो जाती है। हँसी वो चमत्कारिक योग है जिससे तमाम समस्याओं का समाधान अपने आप ही हो जाता है। ....  लेख पढ़ें
कोलेस्ट्रॉल है क्या? जानें, समझें और बचें इन उपायों से जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 24, 2017
कोलेस्ट्रॉल एक वसा है, जो लिवर द्वारा उत्पन्न होती है। यह शरीर के सुचारु रूप से कार्य करने के लिए जरूरी है। हमारे शरीर की प्रत्येक कोशिका को जीवित रहने के लिए कोलेस्ट्रॉल की आवश्यकता होती है। कोलेस्ट्रॉल मोम जैसा चिकना पदार्थ है, जो ब्लड प्लाज्मा द्वारा शरीर के विभिन्न हिस्सों में पहुंचता है। ....  लेख पढ़ें
मानसूनः मौसम मजेदार, पर हो सकता है फंगल संक्रमण जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 14, 2017
बारिश की फुहारें और सुहावना मौसम लाने वाला मानसून त्वचा संबंधी कई बीमारियां भी साथ लेकर आता है। मानसून में कई लोगों को खुजली, मुंहासे या फिर त्वचा के अधिक तैलीय होने की समस्या होती है, लेकिन बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण सर्वाधिक परेशानी का सबब बनते हैं और समय रहते मानसून में फंगल इंन्‍फेक्‍शन पर सावधानी न बरती जाए तो यह समस्या गंभीर हो जाती है। ....  लेख पढ़ें
भारत में महामारी का रूप ले रही थायरॉइड की बीमारी जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 11, 2017
भारत में थायरॉइड के मरीजों की संख्या किस कदर बढ़ रही है, इसका खुलासा हाल ही में डायग्नोस्टिक चेन एसआरएल द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट में हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक 32 फीसदी भारतीय थायरॉइड से जुड़ी विभिन्न प्रकार की बीमारियों की शिकार है. ....  लेख पढ़ें
गर्मियों में पहाड़ पर हैं या समंदर किनारे! त्वचा ठीक रखने के लिए शहनाज हुसैन के टिप्स जनता जनार्दन डेस्क ,  May 11, 2017
गर्मियों की छुट्टियों में ठंडे पहाड़ों और समुद्री तटों पर घूमने-फिरने का आनंद जरूर लें, लेकिन इन मौकों पर सौंदर्य के लिहाज से जागरूक रहना भी जरूरी है, क्योंकि समुद्री तटों तथा पहाड़ों की बर्फ के पारदर्शी सतहों पर सूर्य की किरणें मैदानी इलाकों के बजाय ज्यादा तेज होती हैं, जिससे त्वचा में जलन, कालापन, सनबर्न व मुहांसों जैसी समस्याएं हो सकती हैं. ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल