Sunday, 06 December 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
फिल्म
  • खबरें
  • लेख
मॉडल ने मिस्र की प्राचीन पोशाक पहन खिंचवाई पिरामिड के सामने ग्लैमरस फोटो जनता जनार्दन संवाददाता ,  Dec 03, 2020
मिस्र की फैशन मॉडल सलमा अल-शिमी का इंस्टाग्राम अक्सर खूबसूरत तस्वीरों से भरा रहता है. लेकिन इस बार उन्होंने जो फोटोशूट कराया उससे बवाल मच गया है. ये फोटोशूट मिस्र के पिरामिड के सामने किया गया वो भी इस सभ्यता की हज़ारों सालों पहले की पोशाक पहनकर. ....  समाचार पढ़ें
बनारस को बीजिंग बनाने के प्लान में क्राइम-कथा का तड़का: Bicchoo Ka Khel Review जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 20, 2020
जब पूरा सिस्टम आपके खिलाफ हो तो अपने हक के लिए खुद ही सिस्टम बनना पड़ता है. सिस्टम के खिलाफ खुद सिस्टम बनने वाले हीरो का यह एक और क्राइम-ऐक्शन ड्रामा है. यह सांप-सीढ़ी का खेल है. जिसमें दो सीढ़ी चढ़े नहीं कि कोई न कोई डसने आ जाता है. जी5 और आल्टबालाजी पर रिलीज हुई नौ कड़ियों की यह वेबसीरीज अमित खान के पल्प नॉवेल बिच्छू का खेल पर आधारित है. हिंदी वेब एंटरटेनमेंट की दुनिया में यह लुगदी साहित्य की दस्तक है, जिसमें हिंदी साहित्य जगत का डॉन और कॉमन मैन के दिलों का कॉन लेखक-हीरो कहता है कि यहां सभी पात्र और घटनाएं काल्पनिक नहीं हैं. अगर अपनी कहानी खुद न लिखो तो कोई भी ऐरा-गैरा तुम्हारी कहानी लिखने लगता है. यह लेखक-हीरो को ....  समाचार पढ़ें
A Simple Murder Review: हाथ आए पर मुंह को न लगे जैसी मर्डर कॉमेडी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 20, 2020
पिछले साल बरेली (उत्तर प्रदेश) के विधायक राजेश मिश्र की बेटी साक्षी ने अपने प्रेमी अजितेश से शादी के बाद मीडिया में वीडियो जारी करके आरोप लगाया था कि हम दोनों को पिता से जान का खतरा है. मामला ऑनर किलिंग का बनता था. सात कड़ियों की वेबसीरीज अ सिंपल मर्डर इसी आइडिये से शुरू होती है और अन्य किरदारों की कहानियों के संग जलेबी की तरह जालीदार हो जाती है. मगर इसमें रस नहीं है. कहानियों की जालियों से बीच-बीच में चूहे झांकते हैं और लेखक-निर्देशक की क्रिएटिविटी को कुतर जाते हैं. अंत में एंटरटनमेंट के नाम पर खराब हुए समय की चिंदिंया आपके हाथों में बची रह जाती हैं. अ सिंपल मर्डर न तो ठीक-ठीक क्राइम थ्रिलर बन पाती है और न कॉमेडी. ....  समाचार पढ़ें
Aashram 2 Review: पिछली बार बाबा निराला की कामवासना केंद्र में थी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 12, 2020
Aashram 2 Review: निर्देशक प्रकाश झा की वेब सीरीज आश्रम 2 का मूल स्वर हैः बाबा लाएंगे क्रांति. गरीबों के मसीहा एक रूप-महास्वरूप बाबा निराला सिंह (बॉबी देओल) इस बार काली-कारगुजारियों में पहले सीजन से आगे है. उसके आगे बड़े-बड़े राजनेता पानी भरते हैं. उसके साम्राज्य में भक्तों पर अत्याचार खूब हैं. भक्तों की कोई सुनवाई नहीं है क्योंकि पुलिस या तो बाबा की शरण में पड़ी सत्ता के कब्जे में है या अपने स्वार्थ के आगे घुटने टेके हुए है. ....  समाचार पढ़ें
Laxmii Review: यह फिल्म बम नहीं है, इसमें धुआं ज्यादा है जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 10, 2020
इस दिवाली अगर लोगों को लक्ष्मी बम पर आपत्ति है तो तय मानिए हरी झंडी अक्षय कुमार को भी नहीं मिलने वाली. एक फार्मूला हॉरर फिल्म में ट्रांसजेंडर मुद्दे को जोड़कर उन्होंने समाज सुधार का पाठ पढ़ाने की कोशिश की है मगर हकीकत में वह उलटे इस समाज के लोगों का नुक्सान ही करते हैं. जिस तरह से ट्रांसजेंडर किरदार में अक्षय और शरद केलकर नज़र आते हैं, वह कहीं से इस वर्ग की नई अथवा संभावित आधुनिक तस्वीर नहीं बनाते. न ही उन्हें नए सहज-सकारात्मक रूप में दिखाते हैं. वास्तव में वह ट्रांसजेंडरों की उसी पारंपरिक छवि को मजबूती देते हैं जिसमें वे रहस्यमयी और लगभग डरावने हैं. हॉरर को यहां ट्रां ....  समाचार पढ़ें
Kaali Khuhi Review: इस हॉरर फिल्म में ना कोई डर, ना रहस्य जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 31, 2020
सबसे पहली बात तो यही कि निर्माता-निर्देशक काली खुही को हॉरर फिल्म बता कर प्रमोट करते रहे, मगर यह हॉरर-शून्य है. फिल्म आज ओटीटी प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स पर रिलीज हुई. अगर आपने नेटफ्लिक्स पर बीते जून में अनुष्का शर्मा के प्रोडक्शन हाउस की बुलबुल देखी थी तो समझ लीजिए कि काली खुही उससे भी कमजोर है. काली खुही डेढ़ घंटे की है मगर यहां आपको फिल्म में नहीं बल्कि अपने वक्त की बर्बादी से डर लगता है. बेटी बचाने-बेटी पढ़ाने का मैसेज हो या फिर हॉरर, काली खुही से कई गुना बेहतर फिल्में हिंदी में बन चुकी हैं. यह नेटफ्लिक्स पर हाल दिनों की सबसे कमजोर फिल्म है ....  समाचार पढ़ें
लूटकेस Film Review जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 09, 2020
जिंदगी को ड्यूटी समझने वाले आम आदमी की जिंदगी में सिर्फ पाली बदलती है. कभी वह दिन में काम करता है, कभी रात में. मगर पाली बदलने वाले इस काम से उसकी किस्मत नहीं बदलती. मुंबई में एक अखबार सावधान टाइम्स में मशीनमैन की नौकरी करने वाले नंदन कुमार (कुणाल केमू) को यही महसूस होता है. एक रात प्रेस ....  समाचार पढ़ें
शकुंतला देवी Full Movie Review जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 08, 2020
भले ही सारा जमाना अपने जहन में खुद को जीनियस मानता हो, लेकिन जितना नॉर्मल लोगों के लिए लोगों के बीच जगह बनाना मुश्किल है, उतना ही जीनियस लोगों के लिए भी आम हो जाना मुश्किल है. आज अमेजन प्राइम वीडियो पर प्रीमियर हुई विद्या ....  समाचार पढ़ें
रात अकेली है मिस्ट्री-थ्रिलर Film Review जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jul 31, 2020
किसी मिस्ट्री-थ्रिलर के लिए इससे बढ़िया कुछ नहीं हो सकता कि ओपनिंग सीन में ही हत्या हो जाए. माहौल बन जाता है कि हत्या क्यों हुई. मरने वाला कौन था. उसे मौत के घाट क्यों उतारा गया. कौन से राज खुलने हैं. इस लिहाज से रात अकेली है की शुरुआत रोचक है क्योंकि यहां कुछ ही मिनटों तीन मर्डर हो जाते हैं. ....  समाचार पढ़ें
चिंटू का बर्थडे Movie Review जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jul 16, 2020
बम धमाकों के बीच बगदाद में फंसे बिहार के परिवार की उम्मीदों की कहानी है ....  समाचार पढ़ें
परमाणु परीक्षण भारत का सर्वाधिक निर्णायक क्षण था: जॉन अब्राहम राधिका भिरानी ,  May 28, 2018
परमाणु शुक्रवार को रिलीज हुई। यह राजस्थान के पोखरण में 1998 में किए गए परमाणु परीक्षण की कहानी है। यह दुनिया में परमाणु जासूसी का सबसे बड़ा मामला है, और यह भारत की माटी पर हुआ। मैंने सोचा कि इस कहानी को कहा जाना चाहिए। मैंने खुद से पूछा, 'क्या इस फिल्म को पर्दे पर उतारना बहुत मुश्किल है?' और फिर मैं मुस्कुराया क्योंकि मैं इसे करने जा रहा था। क्योंकि इसे पर्दे पर उतारना मुश्किल है और यह एक फॉर्मूला फिल्म नहीं थी।" ....  लेख पढ़ें
मैं 'इंदु सरकार' किसी को नहीं दिखाऊंगा: मधुर भंडारकर जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 16, 2017
राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता मधुर भंडारकर अपनी आगामी फिल्म 'इंदु सरकार' को लेकर हर तरह के स्पष्टीकरण देकर थक गए हैं. यह फिल्म 1975 में देश में लगाए गए आपातकाल पर आधारित है. गौरतलब है कि सेंसर बोर्ड ने 'इंदु सरकार' में कई कट लगाने के सुझाव दिए हैं, वहीं मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने फिल्म को रिलीज करने से पहले इसे उनकी पार्टी को दिखाए जाने की मांग की है. ....  लेख पढ़ें
फैमिली एंटरटेनर है 'हैप्पी भाग जाएगी', देख सकते हैं जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 20, 2016
आनंद एल. राय छोटे शहरों की बड़ी कहानियां कहने के लिए बॉलीवुड में जाने जाते हैं. उनकी 'तनु वेड्स मनु' की पृष्ठभूमि जहां कानपुर और हरियाणा की रही वहीं रांझणा में वह बनारस की कहानी लेकर आए. इस बार वह फिल्म के प्रोड्यूसर हैं और मुदस्सर अजीज डायरेक्टर. फिल्म की कहानी अमृतसर से शुरू होती है ....  लेख पढ़ें
अक्षय के फैन्स को निराश नहीं करेगी 'रुस्तम' जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 13, 2016
किसी सप्सेंस-थ्रिलर फिल्म के बारे में जब आपको पहले से पता हो कि वो किसी सच्ची घटना या केस पर आधारित है तो उस फिल्म के प्रति उत्सुकता-दिलचस्पी कई बार बढ़ती है तो कई बार कम भी हो जाती है। खासतौर पर ये जान कर कि अंत में कातिल के साथ क्या हुआ था। ....  लेख पढ़ें
'मोहल्ला अस्सी': गाली और फूहड़ता का कॉकटेल जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 30, 2015
बॉलीवुड में आजकल फिल्मों को हिट बनाने के लिए कुछ ऐसा करना फैशन बन गया है, जिससे वह रिलीज से पहले ही सुर्खियों में आ जाए। सुर्खी फिर चाहे फूहड़ता के चलते हो या आस्था के साथ खिलवाड़ के चलते। सनी देओल अभिनीत आगामी फिल्म मोहल्ला अस्सी इसका उदाहरण है। इसका प्रोमो लीक क्या हुआ, यह स्क्रीन पर आने से पहले ही सुर्खियों में आ गई। ....  लेख पढ़ें
2013 के हॉट आइटम नम्बर्स जनता जनार्दन डेस्क ,  Dec 24, 2013
साल 2013 बॉलीवुड की फिल्मों के नाम रहा। इस साल कई फिल्मों रिलीज हुई और कई फिल्मों ने करोड़ों का भी करोबार किया। लेकिन इन फिल्मों की कामयाबी के पीछे खास आइटम नम्बर्स का हाथ रहा। आइए जानते है कि 2013 में कौनसे आइटम नम्बर्स हिट रहे। टीवी पर ब्रेकिंग न्यूज हाय... फिल्म "यह जवानी है दीवानी" में माधुरी दीक्षित का खूबसूरत आइटम नम्बर आज भी ऑडियंस को याद है। यंग जनरेशन के रणबीर कपूर के साथ माधुरी का मस्तीभरा डांस इस साल काफी हिट रहा। ....  लेख पढ़ें
यूं ही सच नहीं हुआ भारतीय सिनेमा का स्वप्न जनता जनार्दन डेस्क ,  Apr 29, 2013
भारतीय सिनेमा के 'पितामह' का खिताब पाने वाले दादा साहेब फाल्के उर्फ धुंदीराज फाल्के ने अपना सिनेमाई सपना तब बुना जब देश में इस कला की कोई स्पष्ट विधा आकार भी नहीं ले पाई थी। जब सिनेमा में इस्तेमाल होने वाली तकनीकों और मशीनों के लिए भी हम विदेश पर निर्भर थे, उस समय फाल्के भारत की पहली मूक फीचर फिल्म 'राजा हरिश्चंद्र' लेकर आए। ....  लेख पढ़ें
'स्पेशल 26' की तरह ही है सीबीआई राधेश्यामम तिवारी ,  Feb 19, 2013
भारत की प्रमुख जांच एजेंसी सीबीआई की छवि को लेकर जितनी निपुणता के साथ 'स्पेशल 26 फिल्म' को परदे पर लाया गया है, वह एक उल्लेखनीय पक्ष है। संभव है कि इसकी बोल्डनेस को प्रचारित करके यदि इस को प्रदर्षित की जाती तो इस पर संबंधित वर्ग की भौहें तन सकती थी और कोई नया विवाद खड़ा हो सकता था ....  लेख पढ़ें
बॉलीवुड बच्चों को नजरंदाज कर रहा है : नंदिता दास जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jul 09, 2012
अगर आप अपने बच्चे के साथ एक बाल फिल्म देखना चाहते हैं तो आपको उसके लिए बहुत मशक्कत करनी पड़ेगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि भारतीय सिनेमा उद्योग की बच्चों पर आधारित फिल्में बनाने में अब कोई दिलचस्पी नहीं रही है। यह कहना है अभिनेत्री और चिल्ड्रेन फिल्म सोसाइटी ऑफ इंडिया (सीएफएसआई) की अध्यक्ष नंदिता दास का। ....  लेख पढ़ें
'कल' में डोलता बॉलीवुड जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 05, 2012
बॉलीवुड अपनी फिल्मों में भूत और भविष्य में प्रवेश करता रहा है। उसकी कोई फिल्म 1910 की कहानी कहती है तो कोई 2050 में ले जाती है। आने वाली फिल्में 'तेरी मेरी कहानी' और 'डेंजरस इश्क' दशकों की कहानी प्रस्तुत करती हैं। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल