Sunday, 17 December 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
दो टूक बात
  • खबरें
  • लेख
सकलडीहा का सम्पूर्ण विकास ही मेरा मुद्दा: भाजपा प्रत्याशी सूर्यमुनी तिवारी अमिय पाण्डेय ,  Feb 21, 2017
खबरे चुनाव से जुडी और खबरे उससे जो गंगा का तटवर्ती इलाका भी है हम बात कर रहे है गृह मंत्री के गृह जनपद चंदौली के विधानसभा सकलडीहा की,सकलडीहा चंदौली जनपद का ही एक हिस्सा है की यहाँ पास में बलुआ घाट और यहाँ से जो रोड है वह ग़ाज़ीपुर,मऊ,और आजमगढ़ जिले को भी जोड़ता है. ....  समाचार पढ़ें
देश में कुछ भी बोलने से लगता है डरः करण जौहर जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 22, 2016
फिल्ममेकर करण जौहर ने जयपुर में लिटरेचर फेस्टिवल में कुछ ऐसा कह डाला है जिस पर बवाल मच गया है। बॉलीवुड के इस मशहूर फिल्ममेकर ने कहा कि इस देश में अपने मन की बात कहने में डर लगता है और हर समय कानूनी नोटिस का डर बना रहता है।करण जौहर ने कहा, 'हम ऐसे देश में हैं जहां अपनी पर्सनल लाइफ के बारे में हम खुलकर नहीं बोल सकते हैं। मुझे इस बात से बहुत दुख होता है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और लोकतंत्र देश में दो सबसे बड़े मजाक बन चुके हैं। ....  समाचार पढ़ें
नहीं मालूम था आलिया गाती भी है: महेश जनता जनार्दन डेस्क ,  Feb 24, 2014
फिल्मकार महेश भट्ट कहते हैं कि उन्हें अभी तक यह मालूम नहीं था कि उनकी बेटी आलिया गाती भी है। अभिनेत्री आलिया भट्ट ने अपनी हालिया प्रदर्शित फिल्म `हाइवे` में गाना गाया है। यह उनकी दूसरी फिल्म है।महेश (65) ने यहां एक कार्यक्रम में कहा कि यह मेरे लिए हैरानी की बात थी। मुझे पता ही नहीं था कि वह इतना अच्छा गाती भी है। कब वह इतनी बहुमुखी प्रतिभा वाली हो गई और कब मां सरस्वती की कृपा उस पर हुई हमें नहीं पता। आलिया ने बीती 21 फरवरी को प्रदर्शित फिल्म `हाइवे` में `सूहा साहा` गीत में आवाज दी है। ....  समाचार पढ़ें
मैं अपने नियम खुद बनाती हूं : प्रियंका चोपड़ा जनता जनार्दन डेस्क ,  Feb 09, 2014
अपनी बॉलीवुड फिल्मों और उदीयमान अंतरराष्ट्रीय संगीत करियर के साथ प्रियंका चोपड़ा एक साथ कई कामों में व्यस्त हैं। लेकिन अभिनेत्री का कहना है कि वे कभी भी काम से दूर नहीं रहना चाहती हैं। प्रियंका इस साल की अपनी पहली रिलीज होने वाली फिल्म गुंडे के प्रचार में व्यस्त हैं और जल्द ही वे अपनी अगली फिल्म 'मैरी कॉम' की शूटिंग शुरू करने की योजना बना रही हैं। ....  समाचार पढ़ें
मुझे एक पोर्न स्टार होने पर गर्व है: सनी लियोन जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 01, 2013
पोर्न स्टार के नाम से मशहूर अदाकारा सनी लियोन का कहना है कि पोर्न स्टार होने की वजह से ही उन्हें पहचान मिली। आज वह जो भी है उसी की बदौलत है। ....  समाचार पढ़ें
सिनेमा मेरे लिए सब कुछ है : अक्षय जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 19, 2013
बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार कहते हैं कि उनकी जिंदगी में शोहरत, इज्जत, दौलत, तारीफ, जीवनशैली, भव्यता सब कुछ सिनेमा जगत की देन है। उन्होंने अपने 20 साल के करियर में जितना कुछ भी हासिल किया है, उसका श्रेय सिनेमा जगत को जाता है। सिनेमा उनके लिए सब कुछ है। ....  समाचार पढ़ें
रजनीकांत का दामाद होने का नहीं मिला फायदा:  धनुष जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 16, 2013
अभिनेता रजनीकांत के दामाद एवं तमिल फिल्मों के सुपरस्टार धनुष का कहना है कि रजनीकांत का दामाद होने से उन्हें कोई मदद नहीं मिली। वर्ष 2004 में धनुष ने रजनीकांत की बेटी ऐश्वर्या से शादी की थी। ....  समाचार पढ़ें
अमिताभ ने गैंगरेप की शिकार छात्रा को श्रद्धांजलि दी जनता जनार्दन डेस्क ,  Dec 30, 2012
बॉलीवुड के सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने दिल्ली में चलती बस में गैंगरेप की शिकार और सिंगापुर में दम तोड़ने वाली छात्रा को एक कविता के माध्यम से श्रद्धांजलि दी है। अमिताभ ने साथ ही आशा जताई है कि विश्व महिलाओं के अधिकारों और उनकी गरिमा के प्रति जागेगा। ....  समाचार पढ़ें
खेमेबाजी से हिंदी जगत को नुकसान पहुँचा-  प्रभाकर श्रोत्रिय सुजाता शिवेन ,  May 24, 2012
हिंदी के वरिष्ठ आलोचक, निबंधकार, प्रभाकर श्रोत्रिय वर्तमान में समकालीन भारतीय साहित्य पत्रिका के अतिथी संपादक हैं। अब तक उनकी आलोचना की 12,निबंध की 6,नाटक 3, किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं। इनके अलावा उन्होंने कई किताबों का संपादन भी किया है। कोलकता से प्रकाशित साहित्यिक मासिक पत्रिका वागर्थ के प्रतिप्ठाता ओर संपादक रह चुके श्रोत्रिय जी ने अब तक पुर्वाग्रह, नया ज्ञानोदय, साक्षात्कार, अक्षरा जैसी साहित्यिक पत्रिकाओं का संपादन बहुत ही निपुणता के साथ किया। ....  समाचार पढ़ें
केवल कानून  नहीं मिटा सकता भ्रष्टाचार:महाश्वेता देवी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 10, 2011
भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रभावी लोकपाल विधेयक लाने की बहस के बीच मैग्सेसे पुरस्कार विजेता प्रख्यात लेखिका तथा समाजिक कार्यकर्ता महाश्वेता देवी का कहना है कि एक विधेयक मात्र के आ जाने से देश को भ्रष्टाचार से छुटकारा नहीं मिलेगा बल्कि इसके लिए लोगों में जागरुकता फैलाने की जरूरत है। ....  समाचार पढ़ें
हम जिस दौर में गुजर रहें हैं, वहां तेजी से बदल रहे हैं पत्रकारिता के मानक: शशि शेखर श्रेष्ठ गुप्ता ,  Feb 13, 2017
देश के दूसरे सबसे बड़े पुस्तक मेले यानी "पटना पुस्तक मेला" में जब एक मंच पर दो दिग्गज पत्रकार नजर आए और सवाल-जवाब का सिलसिला चला तो दर्शक दीर्घा में मौजूद लोगों ने भरपूर आनंद लिया. 'हिन्दुस्तान' के प्रधान संपादक शशि शेखर ने वरिष्ठ टीवी पत्रकार एवं साहित्यकार अनंत विजय के सवालों के खुलकर जवाब दिए. ....  लेख पढ़ें
मीडिया प्रेस से जुड़ो फिर मजे करो... डॉ. भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी ,  Apr 13, 2015
आप पढ़े-लिखे बेरोजगार हैं, जाहिर सी बात है कि जीवन यापन की चिन्ता से ग्रस्त होंगे। यह तो अच्छा है कि अभी तक अकेले हैं, कहीं आप शादी-शुदा होते तो कुछ और बात होती। पढ़े-लिखे हैं और चिन्ताग्रस्त हैं, ऐसे में रातों को नींद नहीं आती होगी, आप एक काम करिए कलम-कागज लेकर बैठ जाइए, बस कुछ ही दिनों में आप को लिखने की आदत पड़ जाएगी।यह मत सोचिए कि लिखने की आदत से क्या परिणाम निकलेगा। ....  लेख पढ़ें
पैसा आज भी प्‍यार को खरीदने की ताकत रखता है: सागर सरहदी अनिल अत्रि ,  Feb 11, 2014
जब मैं पहली बार सागर सरहदी से मिलने उनके सायन स्थित घर गया तो एकबारगी मन में सिहरन-सी पैदा हुई। इतना बड़ा लेखक जिसने एक से एक बड़ी फिल्‍मों के लिए लेखन किया हो। और जिसने बाजार जैसी कालजयी कृति हमें दी हो, उससे मिलना अपने आप में एक सुखद अनुभव तो है ही। साथ ही एक काल्‍पनिक तस्‍वीर भी मेरी आंखों में तैर रही थी। ....  लेख पढ़ें
देहमुक्ति स्त्री की एकमात्र आकांक्षा नहीं: डॉ आशा पाण्डेय सुजाता शिवेन ,  Sep 09, 2012
देहमुक्ति या अपनी देह पर अपना अधिकार स्त्री की प्रथम आकांक्षा हो सकती है किन्तु एक मात्र नही । जहाँ करोड़ों की संख्या में स्त्रियाँ दो वक्त के भर पेट भोजन के जुगाड़ में जद्दोजहद कर रही हों, वहाँ मात्र देह की स्वतन्त्रता कुछ खास मायने नही रखती । मेरे विचार से स्त्री का श्रम विमर्श का मुख्य मुद्दा होना चाहिए । ....  लेख पढ़ें
क्या अन्ना आन्दोलन को समझ न पाया साहित्यिक समाज जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 12, 2011
पता नहीं हमारे समाज के बुद्धिजीवी किस दुनिया में जी रहे हैं । अन्ना के समर्थन में उमड़े जनसैलाब में दलितो,अल्पसंख्यकों और आदिवासियों को ढूंढने में लगे हैं । बड़े लक्ष्य को लेकर चल रहे अन्ना हजारे के आंदोलन में जिस तरह से स्वत: स्फूर्त तरीके से लोग शामिल हो रहे हैं वह आंखें खोल देनेवाला है । घरों में संस्कार और आस्था जैसे धार्मिक चैनलों की जगह न्यूज चैनल देखे जा रहे थे, जिन घरों से सुबह-सुबह भक्ति संगीत की आवाज आया करती थी, वहां से न्यूज चैनलों के रिपोर्टरों की आवाज या अन्ना की गर्जना सुनाई देती थी। ....  लेख पढ़ें
अन्ना आन्दोलन की कामयाबी से घबराई सरकार मीडिया मैनेज में जुटी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 21, 2011
प्रख्यात गांधी वादी अन्ना हजारे के आन्दोलन को मिल रहे अथाह जन समर्थन से घबराई सरकार ने इसके लिए मीडिया खासकर न्यूज चैनलों को दोषी ठहराते हुए अब मीडिया में अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुए इस तबके को भी बांटने की कोशिश शुरू कर दी है. सरकार के मैनेजरों ने यही कोशिश अन्ना के खिलाफ कुछ एन जी ओ को खड़ा कर किया है. इसके अलावा बौद्धिकों में भी सत्ता की मलाई चाट रहे बाहरी तबके को भी लोगों को बरगलाने और अफवाह फ़ैलाने की जिम्मेदारी दी गई है. ....  लेख पढ़ें
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल