प्रकृति
  • खबरें
  • लेख
मौसम विभाग ने दी चेतावनी, 13 राज्यों और 2 केंद्रशासित प्रदेशों से गुजरेगा आंधी-तूफान जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 07, 2018
मौसम विभाग ने सोमवार को एक बार फिर से भविष्यवाणी की है कि अगले 24 घंटे के भीतर भीषण अंधड़ तबाही मचाएगा. यह तबाही सबसे ज्यादा दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में देखने को मिलेगी.इस बीच आंधी-तूफान और तेज बारिश की आशंका के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने दो दिन के लिए सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों की छुट्टियां घोषित कर दी हैं. ....  समाचार पढ़ें
गृह मंत्रालय व मौसम विभाग की आंधी-तूफान की चेतावनी, जानें कहां है खतरा जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 06, 2018
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और इससे सटे एनसीआर के कुछ स्थानों पर आज आंधी-तूफान के साथ बारिश होने की संभावना है. यह जानकारी गृह मंत्रालय ने दी है. उधर, भारतीय मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा है कि छह और आठ मई के बीच कई क्षेत्रों में बारिश होने की संभावना है. ....  समाचार पढ़ें
दुनिया के सबसे प्रदूषित 15 शहरों में भले ही 14 भारत के, फिर भी विश्व स्वास्थ्य संगठन ने प्रधानमंत्री मोदी की 'उज्ज्वला योजना' को सराहा जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 02, 2018
बदलते दौर में न केवल दिमाग में प्रदूषण भर रहा बल्कि हवा भी जहरीली हो गई है. हालात दिन ब दिन खराब होते जा रहे हैं. भले ही दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों की सूची जारी करते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाई गई उज्ज्वला योजना की तारीफ की हो, लेकिन हालात इतने भी बेहतर नहीं हैं कि इस पर इतराया जा सके. ....  समाचार पढ़ें
इस साल मॉनसून सीजन में होगी अच्छी बरसात, लहलहाएंगे खेतः स्काइमेट का अनुमान जनता जनार्दन संवाददाता ,  Apr 04, 2018
देश और किसानों के लिए अच्छी खबर है. इस साल मॉनसून सीजन में अच्छी बरसात होने की संभावना जताई जा रही है. मॉनसून बेहतर रहने से खरीफ फसलों की बुआई अच्छी हो सकती है, जिससे पैदावार तो बढ़ेगी ही खेत भी लहलहाएंगे. ....  समाचार पढ़ें
ब्रह्मांड की पहली भोर से जब रोशन हुआ आसमान जनता जनार्दन डेस्क ,  Mar 01, 2018
ब्रह्मांड के अनगिनत रहस्यों में एक नया खुलासा हुआ है. वैज्ञानिकों का मानना है कि 13.7 अरब साल बिग बैंग से ब्रह्मांड का जन्म और विस्तार हुआ. बिग बैंग से अथाह ऊर्जा निकली. विकिरण और वेग के कारण अतिसूक्ष्म कण काफी दूर दूर तक फैल गए. लेकिन अंधकार होने की वजह से वे कण बहुत ही जल्द ठंडे पड़ गए. ....  समाचार पढ़ें
चंद्र ग्रहण 2018: अनूठा संयोग, ब्लू, ब्लड और सुपर मून का एक साथ दीदार जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 31, 2018
पूर्ण चंद्र ग्रहण भारत समेत दुनिया के तमाम देशों में देखा गया. भारत में इसकी झलक शाम 6.21 बजे से देखा जा रहा है. इस ग्रहण को खग्रास चंद्रग्रहण कहा गया है, जिसके तहत चंद्रमा का कुछ हिस्सा छुप जाएगा. ये ग्रहण लगभग 150 साल बाद आया है. ....  समाचार पढ़ें
कहां दिखेगा पहले चन्द्रग्रहण, किस राशि पर अधिक असर अमिय पाण्डेय ,  Jan 30, 2018
माघ पूर्णिमा 31 जनवरी 2018 को साल का पहला चन्द्रग्रहण लगेगा जिसे दुनिया के कई देशों के अलावा भारत में देखा जा सकेगा। ग्रहण के समय चन्द्रमा पृथ्वी के करीब होने के कारण काफी बड़े आकार का दिखेगा जिसे सुपर मून भी कहा जा रहा है। ज्योतिषशास्त्री कह रहे हैं कि कुछ समय के लिए ग्रहण के दौरान चन्द्रमा लालिमा लिए नजर आएगा जो सैनिकों, कृषकों के लिए शुभ फलदायी नहीं है। ....  समाचार पढ़ें
साइबेरिया का ओइमयाकनः दुनिया के सबसे सर्द प्रदेश में लोगों की पलकें तक जम गईं जनता जनार्दन डेस्क ,  Jan 17, 2018
दिल्ली की सर्दी जो लोग हड्डियां गला देने वाली सर्दी कहते हैं और अगर देश में कई जगहों पर माइनस में तापमान चला जाता है, तो लोग हायतौबा मचाने लगते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया में कई जगहों पर माइनस 50 डिग्री से भी कम तापमान पहुंच जाता है. ....  समाचार पढ़ें
ठंड से जम रही धरतीः 'साइक्लोन बम' से तबाही, पूर्वी अमेरिका बर्फ से ढंका जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 06, 2018
धरती जमती जा रही है. ठंडी हवाओं से हालत खराब है. अमेरिका में भारी बर्फबारी हो रही है. कई शहरों को बर्फ की चादर ने ढक लिया है. बिगड़ते हुए हालातों को देखकर इमरजेंसी घोषित कर दी गई है. बर्फबारी का सबसे ज्यादा असर उड़ानों पर पड़ा है. कल से अबतक करीब 4500 उड़ाने रद्द कर दी गई हैं. ....  समाचार पढ़ें
तूफान ओखी लाया ओले, मुंबई में भारी बारिश, गुजरात भी जद में, पीएम मोदी की अपील जनता जनार्दन संवाददाता ,  Dec 05, 2017
केरल, तमिलनाडु और लक्षद्वीप में तबाही मचाने के बाद ओखी तूफान अब महाराष्ट्र और गुजरात की तरफ बढ़ रहा है. मंगलवार देर रात तक वह गुजरात के तट से टकरा सकता है. ओखी तूफान के असर से दोनों राज्यों के कई हिस्सों में तेज हवा के साथ जबरदस्त बारिश से सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. मुंबई में मंगलवार को बारिश के साथ ओले भी गिरे. बता दें कि चक्रवाती तूफान ओखी मुंबई से दक्षिण-पश्चिम की ओर 670 किलोमीटर की दूरी पर है. ....  समाचार पढ़ें
विश्व पृथ्वी दिवस : हमें पेड़ लगाने ही होगें,हम स्वार्थी इंसानों के पास और कोई विकल्प नहीं  आकांक्षा सक्सेना ,  Apr 22, 2018
हमने जबसे याद सम्भालीं है तब से यही सुनते चले आ रहे हैं कि पृथ्वी हमारी माता है और सुबह जागते ही पृथ्वी पर पांव रखने से पहले पृथ्वी माता के पांव छूओ। यह हैं हमारे भारतीय संस्कृति और संस्कार पर कहते हैं न पूर्वजों की कहीं बातें सिर्फ हमने सुनी और लिखीं पर अफसोस! अमल में न ला सके। आज हमारी महत्वाकांक्षायें अंतरिक्ष के साथ-साथ पृथ्वी माँ का भी कलेजा चीरती हुई दिखाई पड़ती है कि आज जंगल न के बराबर बचे हैं। एक समय था हर भारतीय चंदन लगाता था पर आज चंदन की लकड़ी के दर्शन दुर्लभ हैं ....  लेख पढ़ें
घर में लगाएं ये लाभकारी पौधेः इनसे बचता है पर्यावरण, बनता है स्वास्थ्य, आती है समृद्धि श्वेता झा ,  Nov 30, 2017
हम सबको इसके लिए अपनी दिनचर्या में कुछ अहम बदलाव लाने होंगे. अब तक मैं, आप, हम सभी ने कई अवसरों पर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को बहुत से तोहफे दिए होंगे, बहुत से लिए भी होंगे, पर क्यों ना हम सब अब प्रण लें आने वाले समय में एक दूसरे को पेड़ पौधें गिफ्ट करें और एक कदम स्वच्छ हवा की ओर बढ़ाएं. ....  लेख पढ़ें
प्रकृति की अनदेखी का खामियाजा भुगतने को रहें तैयार जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 05, 2017
प्रकृति हो या मानव जीवन समाज हो अथवा देश, सभी की उचित स्थिति सुख-समृद्धि तभी तक रह सकती है, जब तक उनमें पर्याप्त संतुलन बना रहे। लेकिन कुछ सालों से पर्यावरण पूरी तरह से असंतुलित हो गया है। पर्यावरण दिवस मनाने के मायने क्या हैं, इसको समझना जरूरी है ....  लेख पढ़ें
पृथ्वी दिवस 2017: धरती माता को बचाने के लिए भारत की पहल पांडुरंग हेगड़े ,  Apr 21, 2017
संयुक्त राष्ट्र 22 अप्रैल को एक विशेष दिवस के रूप में पृथ्वी मातृ दिवस मनाता है। 1970 में 10000 लोगों के साथ प्रारंभ किये गये इस दिवस को आज 192 देशों के एक अरब लोग मनाते हैं। इसका बुनियादी उद्देश्य पृथ्वी की रक्षा और भविष्य में पीढ़ियों के साथ अपने संसाधनों को साझा करने के लिए मनुष्यों को उनके दायित्व के बारे में जागरूक बनाना है। ....  लेख पढ़ें
मानसून और पूर्वानुमानः कितनी सच्चाई, कितना फसाना मंजू चौहान ,  Apr 19, 2017
मानसून कृषि के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि आधी से ज्यादा खेती-बाड़ी मानसूनी बारिश पर ही निर्भर करती है। लेकिन जहां सिंचाई के साधन हैं भी, वहां भी मानसूनी बारिश जरूरी है, क्योंकि बारिश नहीं होगी तो नदियां-झीलें भी सूख जाएंगी जहां से सिंचाई के लिए पानी आता ....  लेख पढ़ें
गौरैया संरक्षण दिवस पर विशेषः आंगन से क्यों गायब हो रही नन्ही गौरैया जनता जनार्दन डेस्क ,  Mar 19, 2017
विज्ञान और विकास के बढ़ते कदम ने हमारे सामने कई चुनौतियां भी खड़ी की हैं, जिससे निपटना हमारे लिए आसान नहीं है। विकास की महत्वाकांक्षी इच्छाओं ने हमारे सामने पर्यावरण की विषम स्थिति पैदा की है, जिसका असर इंसानी जीवन के अलावा पशु-पक्षियों पर साफ दिखता है। ....  लेख पढ़ें
नर्मदा के लिए 'गांधी मॉडल' की जरूरत: पी वी राजगोपाल जनता जनार्दन डेस्क ,  Feb 17, 2017
ग्लोबलाइजेशन के इस दौर में नदियों पर बांध बनाकर बिजली पैदा करने के लिए बड़ी कंपनियों को निवेश के लिए बुलाकर उन्हें जमीन देने की होड़ मची हुई है, यहीं से समस्या पैदा हो रही है। यह पूरी तरह चीनी मॉडल है, जो सब पर हावी है। जहां तक नर्मदा परिक्रमा की बात है, इससे नदी के प्रति जागृति तो आ सकती है। मगर इससे नर्मदा अविरल और प्रवाहमान हो पाएगी, इसमें संदेह है।” ....  लेख पढ़ें
भारत सरकार के साथ गड़बड़ क्या है? पशु अधिकार कार्यकर्ताओं ने पूछा कुशाग्र दीक्षित ,  Jun 19, 2016
जीवों के संरक्षण और पर्यावरण संवेदनशील देश के रूप में भारत की छवि बनाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान के बावजूद सरकार द्वारा 'नाशक जीवों' की हत्या का समर्थन करने से विदेशों में भारत की छवि धूमिल हुई है. नतीजा है कि विश्व भर में 15 लाख लोग पूछ रहे हैं कि 'भारत सरकार के साथ गड़बड़ क्या है?' ....  लेख पढ़ें
सूखे के कारण प्रवासी पक्षियों ने तेलंगाना से मुंह मोड़ा मोहम्मद शफीक ,  May 16, 2016
बीते दो साल से जारी जबरदस्त सूखे के कारण बहुत कम संख्या में प्रवासी पक्षियों ने तेलंगाना का रुख किया है. ऐसे में जबकि हैदराबाद की अधिकांश झीलें सूखने के कगार पर हैं, प्रवासी पक्षियो ने उन झीलों का रुख किया है, जहां अभी भी पानी मौजूद है. ....  लेख पढ़ें
वर्ष 2025 तक भयंकर जल संकट वाला देश बन जाएगा भारत जनता जनार्दन डेस्क ,  Apr 17, 2016
देश के अलग-अलग हिस्सों की प्यास से जुड़ी तस्वीरें दिखाने के बाद, अब हम पानी से संबंधित कुछ चिंताजनक आंकड़े आपके सामने रखना चाहते हैं। ये वो आंकड़े हैं जो आपको ना तो कहीं देखने को मिलेंगे और ना ही कोई आपको पानी की गंभीर स्थिति के बारे में बताएगा। एवरीथिंग अबाउट वॉटर नाम की कंसल्टिंग फर्म की रिपोर्ट के मुताबिक भारत, वर्ष 2025 तक भयंकर जल संकट वाला देश बन जाएगा।। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख