प्रकृति
  • खबरें
  • लेख
बारिश से बेहाल मुंबई: लोकल ट्रेनें रद्द, डिब्बावाला ने रोकी सेवाएं, अभी और बरसेंगे मेघ जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jul 10, 2018
मुंबई में बरसात का कहर जारी है. भारी बारिश के चलते पटरियों में पानी भर जाने से 90 लोकल ट्रेन रद्द कर दी गई हैं वहीं कुछ 10 से 15 मिनट की देरी से चल रही हैं. मुंबई में कल रात से भारी हुई है जिसकी वजह से जगह पानी भर गया है. मौसम विभाग की ओर से जारी भारी बारिश चेतावनी के बाद से 'डिब्बावालों' ने अपनी सेवाएं रोक दी हैं. सोमवार को मुंबई में सामान्य से 5 गुना ज्यादा बारिश दर्ज की गई है. ....  समाचार पढ़ें
मुंबई में ज़ोरदार बारिश: अंधेरी में फुटओवर ब्रिज गिरा जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 03, 2018
मुंबई में ज़ोरदार बारिश की वजह से अंधेरी रेलवे स्टेशन के पास गोखले ब्रिज का एक हिस्सा गिर गया. हादसा आज सुबह साढ़े सात बजे के क़रीब हुआ. गनीमत है कि हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ. ये ब्रिज अंधेरी ईस्ट को अंधेरी वेस्ट से जोड़ता है.इस हादसे के बाद पश्चिम रेलवे प्रभावित है और ब्रिज के आसपास की ट्रैफ़िक रोक दिया गया है. ....  समाचार पढ़ें
भीषण तपिश के बीच यूपी में कहीं कहीं बूंदाबांदी जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 23, 2018
भीषण तपिश के बीच शुक्रवार का दिन कुछ राहत लेकर आया। प्रदेश के कुछ स्थानों पर आंधी के बाद बारिश की फुहारों ने सुकून पहुंचाया। पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई स्थानों पर बारिश ने आसमान से आग उगल रहे सूरज की तपिश को कुछ कम जरूर किया, लेकिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश सहित कई स्थानों पर सूरज की ....  समाचार पढ़ें
मंगल पर जीवनः सतह पर मिले कार्बनिक अणु वहां कभी जिंदगी होने के मजबूत सबूत जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jun 08, 2018
मंगल यानी लाल ग्रह यानी मार्स पर कई सौ साल पहले जीवन होने के संकेत मिले हैं, जिसे नासा के यान ने ढूंढ़ा है. वैज्ञानिक जगत इसे मार्स मिशन की बड़ी कामयाबी मान रहा है. मार्स ग्रह के पत्थरों से तीन अरब साल पुराने कार्बनिक अणु यानि ऑर्गेनिक मॉलीक्यूल्स मिले हैं, जिसे कई सालों पहले यहां जिंदगी होने के सबूत के तौर पर देखा जा रहा है. ....  समाचार पढ़ें
मौसम विभाग ने दी चेतावनी, 13 राज्यों और 2 केंद्रशासित प्रदेशों से गुजरेगा आंधी-तूफान जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 07, 2018
मौसम विभाग ने सोमवार को एक बार फिर से भविष्यवाणी की है कि अगले 24 घंटे के भीतर भीषण अंधड़ तबाही मचाएगा. यह तबाही सबसे ज्यादा दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में देखने को मिलेगी.इस बीच आंधी-तूफान और तेज बारिश की आशंका के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने दो दिन के लिए सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों की छुट्टियां घोषित कर दी हैं. ....  समाचार पढ़ें
गृह मंत्रालय व मौसम विभाग की आंधी-तूफान की चेतावनी, जानें कहां है खतरा जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 06, 2018
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और इससे सटे एनसीआर के कुछ स्थानों पर आज आंधी-तूफान के साथ बारिश होने की संभावना है. यह जानकारी गृह मंत्रालय ने दी है. उधर, भारतीय मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा है कि छह और आठ मई के बीच कई क्षेत्रों में बारिश होने की संभावना है. ....  समाचार पढ़ें
दुनिया के सबसे प्रदूषित 15 शहरों में भले ही 14 भारत के, फिर भी विश्व स्वास्थ्य संगठन ने प्रधानमंत्री मोदी की 'उज्ज्वला योजना' को सराहा जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 02, 2018
बदलते दौर में न केवल दिमाग में प्रदूषण भर रहा बल्कि हवा भी जहरीली हो गई है. हालात दिन ब दिन खराब होते जा रहे हैं. भले ही दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों की सूची जारी करते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाई गई उज्ज्वला योजना की तारीफ की हो, लेकिन हालात इतने भी बेहतर नहीं हैं कि इस पर इतराया जा सके. ....  समाचार पढ़ें
इस साल मॉनसून सीजन में होगी अच्छी बरसात, लहलहाएंगे खेतः स्काइमेट का अनुमान जनता जनार्दन संवाददाता ,  Apr 04, 2018
देश और किसानों के लिए अच्छी खबर है. इस साल मॉनसून सीजन में अच्छी बरसात होने की संभावना जताई जा रही है. मॉनसून बेहतर रहने से खरीफ फसलों की बुआई अच्छी हो सकती है, जिससे पैदावार तो बढ़ेगी ही खेत भी लहलहाएंगे. ....  समाचार पढ़ें
ब्रह्मांड की पहली भोर से जब रोशन हुआ आसमान जनता जनार्दन डेस्क ,  Mar 01, 2018
ब्रह्मांड के अनगिनत रहस्यों में एक नया खुलासा हुआ है. वैज्ञानिकों का मानना है कि 13.7 अरब साल बिग बैंग से ब्रह्मांड का जन्म और विस्तार हुआ. बिग बैंग से अथाह ऊर्जा निकली. विकिरण और वेग के कारण अतिसूक्ष्म कण काफी दूर दूर तक फैल गए. लेकिन अंधकार होने की वजह से वे कण बहुत ही जल्द ठंडे पड़ गए. ....  समाचार पढ़ें
चंद्र ग्रहण 2018: अनूठा संयोग, ब्लू, ब्लड और सुपर मून का एक साथ दीदार जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 31, 2018
पूर्ण चंद्र ग्रहण भारत समेत दुनिया के तमाम देशों में देखा गया. भारत में इसकी झलक शाम 6.21 बजे से देखा जा रहा है. इस ग्रहण को खग्रास चंद्रग्रहण कहा गया है, जिसके तहत चंद्रमा का कुछ हिस्सा छुप जाएगा. ये ग्रहण लगभग 150 साल बाद आया है. ....  समाचार पढ़ें
धरती को बचाना है तो हर कोई लगाए 5 पेड़ः 'वृक्ष बंधु' परशुराम सिंह अमिय पाण्डेय ,  Jul 09, 2018
पिछले दो दशक में एक लाख से ज्यादा पेड़ लगा कर उनकी देखभाल करने वाले परशुराम सिंह का मानना है कि बच्चों को शुरू से ही पर्यावरण के प्रति सचेत रहने कि शिक्षा दी जाये ताकि वे भविष्य में पर्यावरण को संतुलित रख सकें. गांव-गांव जाकर पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के चलते सिंह को 'वृक्ष बंधू' की उपाधि मिल चुकी है और उन्हें मिले अवार्डों से उनका पूरा एक कमरा भरा है. ....  लेख पढ़ें
धरती पर चंद्रमा का असरः कभी केवल 18 घंटे का था दिन, बढ़ रही दूरी से जल्द ही 25 घंटे का होगा दिन जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 07, 2018
चंद्रमा के पृथ्वी से दूर जाने के कारण हमारे ग्रह पर दिन लंबे होते जा रहे हैं. एक अध्ययन में यह बात सामने आयी है कि 1.4 अरब वर्ष पहले धरती पर एक दिन महज 18 घंटे का होता था. संभव है कि धरती से चंद्रमा की बढ़ती दूरी के चलते आने वाले समय में धरती पर 25 घंटे का दिन होने लगे. ....  लेख पढ़ें
विश्व पर्यावरण दिवस 2018: जब जीवन ही न होगा, तो कहां होंगे हम जय प्रकाश पाण्डेय ,  Jun 05, 2018
विश्व पर्यावरण दिवस हर साल हमें इस बात का मौका देता है कि हम देखें, समझें और जानें कि प्रकृति के संरक्षण में हर व्यक्ति, परिवार, गांव, शहर, जाति, राज्य, देश और समूचे विश्व की क्या भूमिका है. सारी दुनिया में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है. ....  लेख पढ़ें
विश्व पृथ्वी दिवस : हमें पेड़ लगाने ही होगें,हम स्वार्थी इंसानों के पास और कोई विकल्प नहीं  आकांक्षा सक्सेना ,  Apr 22, 2018
हमने जबसे याद सम्भालीं है तब से यही सुनते चले आ रहे हैं कि पृथ्वी हमारी माता है और सुबह जागते ही पृथ्वी पर पांव रखने से पहले पृथ्वी माता के पांव छूओ। यह हैं हमारे भारतीय संस्कृति और संस्कार पर कहते हैं न पूर्वजों की कहीं बातें सिर्फ हमने सुनी और लिखीं पर अफसोस! अमल में न ला सके। आज हमारी महत्वाकांक्षायें अंतरिक्ष के साथ-साथ पृथ्वी माँ का भी कलेजा चीरती हुई दिखाई पड़ती है कि आज जंगल न के बराबर बचे हैं। एक समय था हर भारतीय चंदन लगाता था पर आज चंदन की लकड़ी के दर्शन दुर्लभ हैं ....  लेख पढ़ें
घर में लगाएं ये लाभकारी पौधेः इनसे बचता है पर्यावरण, बनता है स्वास्थ्य, आती है समृद्धि श्वेता झा ,  Nov 30, 2017
हम सबको इसके लिए अपनी दिनचर्या में कुछ अहम बदलाव लाने होंगे. अब तक मैं, आप, हम सभी ने कई अवसरों पर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को बहुत से तोहफे दिए होंगे, बहुत से लिए भी होंगे, पर क्यों ना हम सब अब प्रण लें आने वाले समय में एक दूसरे को पेड़ पौधें गिफ्ट करें और एक कदम स्वच्छ हवा की ओर बढ़ाएं. ....  लेख पढ़ें
प्रकृति की अनदेखी का खामियाजा भुगतने को रहें तैयार जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 05, 2017
प्रकृति हो या मानव जीवन समाज हो अथवा देश, सभी की उचित स्थिति सुख-समृद्धि तभी तक रह सकती है, जब तक उनमें पर्याप्त संतुलन बना रहे। लेकिन कुछ सालों से पर्यावरण पूरी तरह से असंतुलित हो गया है। पर्यावरण दिवस मनाने के मायने क्या हैं, इसको समझना जरूरी है ....  लेख पढ़ें
पृथ्वी दिवस 2017: धरती माता को बचाने के लिए भारत की पहल पांडुरंग हेगड़े ,  Apr 21, 2017
संयुक्त राष्ट्र 22 अप्रैल को एक विशेष दिवस के रूप में पृथ्वी मातृ दिवस मनाता है। 1970 में 10000 लोगों के साथ प्रारंभ किये गये इस दिवस को आज 192 देशों के एक अरब लोग मनाते हैं। इसका बुनियादी उद्देश्य पृथ्वी की रक्षा और भविष्य में पीढ़ियों के साथ अपने संसाधनों को साझा करने के लिए मनुष्यों को उनके दायित्व के बारे में जागरूक बनाना है। ....  लेख पढ़ें
मानसून और पूर्वानुमानः कितनी सच्चाई, कितना फसाना मंजू चौहान ,  Apr 19, 2017
मानसून कृषि के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि आधी से ज्यादा खेती-बाड़ी मानसूनी बारिश पर ही निर्भर करती है। लेकिन जहां सिंचाई के साधन हैं भी, वहां भी मानसूनी बारिश जरूरी है, क्योंकि बारिश नहीं होगी तो नदियां-झीलें भी सूख जाएंगी जहां से सिंचाई के लिए पानी आता ....  लेख पढ़ें
गौरैया संरक्षण दिवस पर विशेषः आंगन से क्यों गायब हो रही नन्ही गौरैया जनता जनार्दन डेस्क ,  Mar 19, 2017
विज्ञान और विकास के बढ़ते कदम ने हमारे सामने कई चुनौतियां भी खड़ी की हैं, जिससे निपटना हमारे लिए आसान नहीं है। विकास की महत्वाकांक्षी इच्छाओं ने हमारे सामने पर्यावरण की विषम स्थिति पैदा की है, जिसका असर इंसानी जीवन के अलावा पशु-पक्षियों पर साफ दिखता है। ....  लेख पढ़ें
नर्मदा के लिए 'गांधी मॉडल' की जरूरत: पी वी राजगोपाल जनता जनार्दन डेस्क ,  Feb 17, 2017
ग्लोबलाइजेशन के इस दौर में नदियों पर बांध बनाकर बिजली पैदा करने के लिए बड़ी कंपनियों को निवेश के लिए बुलाकर उन्हें जमीन देने की होड़ मची हुई है, यहीं से समस्या पैदा हो रही है। यह पूरी तरह चीनी मॉडल है, जो सब पर हावी है। जहां तक नर्मदा परिक्रमा की बात है, इससे नदी के प्रति जागृति तो आ सकती है। मगर इससे नर्मदा अविरल और प्रवाहमान हो पाएगी, इसमें संदेह है।” ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख