Monday, 19 November 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
Oct 22, 2018: कुछ साल पहले की बात है. भारतीय भाषा की एक साहित्यकार ने, जिन्हें तब तक ज्ञानपीठ पुरस्कार भी नहीं मिला था, दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में निजी बातचीत में यह दावा किया था कि ...

by सुजाता शिवेन
सुजाता शिवेन
सुजाता शिवेन Writer, Translator and feature coordinator JantaJanardan and FacenFacts

वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल