त्यौहार
राखी बांधने का मुहूर्त इस बार दोपहर बाद जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 23, 2015
29 अगस्त को मनाए जाने वाले रक्षाबंधन पर इस वर्ष बहन को भाई की कलाई पर स्नेह की डोर बांधने के लिए थोड़ा इंतजार करना होगा, क्योंकि रक्षाबंधन पर भद्रा का साया पड़ रहा है। चूंकि भद्रा का समय काल दोपहर 1.50 बजे तक रहेगा इसलिए राखी बांधने के लिए शुभ समय दोपहर 1.50 बजे के बाद शुरू होगा। दोपहर 1.51 से लेकर शाम 4.30 बजे तक का समय सर्वश्रेष्ठ है। ....  लेख पढ़ें
हरेला पर्व से होती है सावन की शुरुआत जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 13, 2015
देव भूमि कहा जाने वाला उत्तराखण्ड जहां अपने तीर्थ स्थलों के कारण दुनिया भर में प्रसिद्ध है वहीं यहां की संस्कृति में जितनी विविधता दिखाई देती है, शायद कहीं और नहीं है। उत्तराखण्ड को देश में सबसे ज्यादा लोक पर्वो वाला राज्य भी कहा जाता है। इन्हीं में से एक है हरेला। खास बात है कि कोई भी त्योहार साल में जहां एक बार आता है, वहीं हरेला के साथ ऐसा नहीं है। ....  लेख पढ़ें
यहाँ अक्षय तृतीया पर होता है पुतरा-पुतरी विवाह जनता जनार्दन डेस्क ,  Apr 21, 2015
छत्तीसगढ़ में प्राचीन काल से अक्षय तृतीया के दिन मिट्टी के पुतरा-पुतरी का विवाह कराने की परंपरा है। पुतरा-पुतरी यानी पुतला-पुतली के विवाह की परंपरा निभाते हुए लोग बाद में अपने नाबालिग बच्चों के भी विवाह कराने लगे। हालांकि अब धीरे-धीरे इस पर विराम लगाने का प्रयास चल रहा है। छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक पृष्ठभूमि में रचे-बसे पुतरा-पुतरी के विवाह का विशेष महत्व है। ....  लेख पढ़ें
इस बार नवरात्र 8 दिन का, 6 शुभ संयोग जनता जनार्दन डेस्क ,  Mar 15, 2015
इस बार चैत्र नवरात्र नौ की जगह आठ दिन का होगा। इसका का शुभारंभ 21 मार्च से हो रहा है। आमतौर पर नवरात्र के दिनों का घट जाना शुभ नहीं माना जाता है, लेकिन इस बार चैत्र नवरात्र के आठ दिन में छह दिन शुभ संयोग वाले रहेंगे।पंडितों का कहना है कि शनिवार से नवरात्र शुरू होना श्रेष्ठ समृद्धि का कारक होगा। साथ ही ग्रहचाल की दृष्टि से देव गुरु बृहस्पति अपनी उच्च राशि कर्क में रहेंगे। ....  लेख पढ़ें
गणतंत्र दिवस पर सजेगी राष्ट्रप्रेम संध्या जनता जनार्दन डेस्क ,  Jan 17, 2015
गणतंत्र दिवस भारत में 26 जनवरी को मनाया जाता है और यह भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है। हर वर्ष 26 जनवरी एक ऐसा दिन है जब प्रत्‍येक भारतीय के मन में देश भक्ति की लहर और मातृभूमि के प्रति अपार स्‍नेह भर उठता है।ऐसी अनेक महत्त्वपूर्ण स्‍मृतियां हैं जो इस दिन के साथ जुड़ी हुई है। 26 जनवरी, 1950 को देश का संविधान लागू हुआ और इस प्रकार यह सरकार के संसदीय रूप के साथ एक संप्रभुताशाली समाजवादी लोक‍तांत्रिक गणतंत्र के रूप में भारत देश सामने आया। ....  लेख पढ़ें
ओणम पर्व का महत्व और कथा जनता जनार्दन डेस्क ,  Sep 07, 2014
यूं तो भारत भर में हर जाति-प्रजाति के अनेक पारंपरिक त्योहार मनाए जाते हैं, लेकिन कुछ त्योहार ऐसे होते हैं, जिनका स्वरूप शहर में बहुत ही कम देखने को मिलता है। केरल के राजा महाबलि की स्मृति में दक्षिण भारतीय परिवारों ने ओणम का त्योहार वहां के रीति-रिवाजों व परंपराओं के अनुरूप मनाया जाता हैं। ....  लेख पढ़ें
सुपरहीरो वाली राखियों से सजेगी भाइयों की कलाई जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 09, 2014
मोतियों और सलमो सितारों से जड़ी राखियों का जमाना बीत गया। इस बार रक्षा बंधन पर अपने भाई के लिए उसके पसंदीदा कार्टून या सुपरहीरो या भगवान की तस्वीर और प्रतीक वाली राखियां आजमाइए। चंडीगढ़ की रहने वाली लीना शर्मा हर साल अपने दो भाइयों के साथ रक्षा बंधन का त्योहार मनाती है। 28 वर्षीय लीना कहती हैं कि साधारण रंगीन धागे से आगे बढ़कर वह इस बार कार्टून चरित्र छोटा भीम के प्रतीक वाली राखियां अपने भाइयों के लिए खरीदेंगी। ....  लेख पढ़ें
......रेशम की डोरी से संसार बांधा है जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 09, 2014
बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है, रेशम की डोरी से संसार बांधा है। भाई-बहन के प्यार को प्रदर्शित करने वाले इस फिल्मी गीत की धुन वास्तव में भाई-बहन के बीच अनोखे बंधन को मजबूती प्रदान करता है। त्योहार निकट आते ही बहनें जहां अपने भाईयों की पसंद का ख्याल रखते हुए तरह-तरह की राखियों की खरीददारी कर रही हैं। वहीं राखियों के बदले बहनों को उपहार देने के लिए भाई भी गिफ्ट खरीदने में जुटे हैं। बाजारों में लोगों की पसंद के हिसाब से राखियां सजाई गई हैं। वहीं उपहार की दुकानें भी गुलजार हो रही हैं। ....  लेख पढ़ें
दुःख-दर्द को भूल कर आगे बढ़ने का त्योहार है होली बी.पी. गौतम ,  Mar 15, 2014
धार्मिक मान्यताओं और सामाजिक परंपराओं को याद दिलाने वाले त्योहार होली को भी पाश्चात्य संस्कृति का ग्रहण लगता जा रहा है। ईश्वर और प्रकृति की सत्ता का अहसास कराने वाले इस त्योहार को मनाने की जगह सेलिब्रेट करने की परंपरा बढ़ती जा रही है। ....  लेख पढ़ें
मुहर्रम: मातम है या कुछ औऱ... मु. जहाँगीर आलम ,  Nov 15, 2013
मुहर्रम इस्लाम धर्म में विश्वास करने वाले लोगों का एक प्रमुख त्यौहार है। इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार मुहर्रम हिजरी संवत का प्रथम मास है। और इसी महीने में पैगंबर हजरत मुहम्मद, मुस्तफा सल्लाहों अलैह व आलही वसल्लम ने मक्का से पवित्र नगर मदीना में हिजरत किया था। तभी से हिजरी संवंत की शुरुआत हुई। इस महीने की और भी बहुत सारी विशेषताएं है। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या 2019 लोकसभा चुनाव में NDA पूर्ण बहुमत से सत्ता में आ सकती है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल