Saturday, 22 February 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
राजनीति
अजित पवार 80 के दशक में शरद पवार से सीखे राजनीति के गुर जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 23, 2019
महाराष्ट्र में राजनीतिक घमासान अभी भी खत्म नहीं हुआ है. यहां बीजेपी-एनसीपी गठबंधन की सरकार तो बन गई है लेकिन ये सरकार विधानसभा में बहुमत साबित कर पाएगी या नहीं इसे लेकर संशय बरकरार है. यहां जानिए- राज्य की राजनीति में नया एंगल लाने वाले अजित पवार के बारे में. ....  लेख पढ़ें
ओपीनियन पोल: हरियाणा में फिर क्यों खिलेगा कमल? जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 18, 2019
महाराष्ट्र और हरियाणा में कल चुनाव प्रचार थम जाएगा. प्रचार खत्म होने से पहले एबीपी न्यूज ने सी वोटर के साथ दोनों राज्यों में लोगों का मूड जानने की कोशिश की है. इस सर्वे में हमने दोनों राज्यों के 29 हजार 550 लोगों से बात की है. सर्वे 16 सितंबर से 16 अक्टूबर के बीच किया गया है ....  लेख पढ़ें
जानिए 13 अप्रैल, 1919 को क्या हुआ था अमृतसर के जलियांवाला बाग में जनता जनार्दन संवाददाता ,  Apr 13, 2019
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की दर्दनाक घटनाओं में से एक जलियांवाला बाग हत्याकांड के आज 100 साल हो गए. इस अवसर पर संपूर्ण राष्ट्र जलियांवाला बाग नरसंहार में शहीद हुए देश के वीर जांबाजों को याद कर रहा है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राष्ट्र के अमर सिपाहियों को नमन किया. आज के दिन हम आपको बता रहे हैं कि आखिर जलियांवाला बाग में बैसाखी के दिन 13 अप्रैल, 1919 को क्या हुआ था कि ये दुनिया के इतिहास में सबसे जघन्यतम नर ....  लेख पढ़ें
राहुल गांधी का मोदी पर वार, कहा- बीजेपी के घोषणापत्र में अलग-थलग पड़ चुके एक आदमी की आवाज है जनता जनार्दन संवाददाता ,  Apr 09, 2019
बीजेपी ने संकल्प पत्र में देश के विभिन्न हिस्सों में चरणबद्ध तरीके से घुसपैठियों को निकालने के लिये एनआरसी लागू करने, जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा संबंधी अनुच्छेद 370, 35ए समाप्त करने और अयोध्या में राम मंदिर के शीघ्र निर्माण सहित कई वादे किये हैं. बीजेपी ने जोर दिया है कि 2022 में जब आजादी के 75 साल होंगे तब आजादी की जंग लड़ने वाले महापुरूषों के सपनों का भारत बनाने के लिए पार्टी ने 75 लक्ष्य तय किये हैं. इनमें कृषि, युवा, शिक्षा, आधारभूत ढांचा, रेलवे, स्वास्थ्य, अर्थव्यवस्था, सुशासन, समावेशी विकास, महिला सशक्तिकरण और सांस्कृतिक धरोहर का विषय शामिल है. ....  लेख पढ़ें
आर्थिक आरक्षणः एक औचित्यपूर्ण बहस डॉ शशिकान्त पाण्डेय एवं डॉ अमित सिंह ,  Feb 03, 2019
यह स्पष्ट है कि सरकारी नौकरियों में निजीकरण की प्रक्रिया शुरू होने के उपरान्त काफी कमी आयी है अतः 10 प्रतिशत आरक्षण समस्या का समाधान नहीं है। यदि सरकार वास्तव में किसानों-नौजवानों की समस्याओं के प्रति गंभीर है तो उसे लुभावने वायदों से आगे बढ़कर कृषि, शिक्षा-व्यवस्था में ढ़ाँचागत बदलाव लाने की तरफ अग्रसर होना होगा। ....  लेख पढ़ें
2019 लोकसभा चुनाव से भारतीय लोकतंत्र एवं राजनीति का रोडमैप होगा निर्धारित प्रोफेसर शशिकान्त पाण्डेय, डॉ अमित सिंह ,  Jan 13, 2019
भाजपा बनाम कांग्रेस और मोदी बनाम राहुल गांधी के चर्चित और लोकप्रिय विमर्श के बजाय भारतीय राजनीतिक परिदृश्य में किसानों की ऋणमाफी के मुद्दों के माध्यम से किसानों और किसानी मुद्दा भारतीय राजनीति के चुनावी-विमर्श में छा जाना वर्ष 2018 की सबसे सुखद राजनीतिक मोड़ है और उपलब्धि भी ....  लेख पढ़ें
महिला आरक्षण: भारत की राजनीति में  अमित मौर्या ,  Oct 20, 2018
महिलाओं को राजनीति में आरक्षण चाहिए .-- क्यों ? कैसा ? आखिर यह करना क्या चाहती हैं ? देश के लिए कुछ करने के लिए आरक्षण की जरूरत नहीं जहाँ जिसे आरक्षण चाहिए उसे राष्ट्र भक्षण के लिए आरक्षण चाहिए राष्ट्र संरक्षण के लिए आरक्षण कोई नहीं माँगता .जो राजनीति में सफल है बस वो फाइलों पर हस्ताक्षर के लिए है चाहे प्रधान ,ब्लाक प्रमुख ,जिला पंचायत अध्यक्ष ,विधायक ,सांसद या मंत्री सब कार्य इन सबके पतिदेव ही करते है कितनी महिलायें हैं जो देश राजनीति के कारण आज राजनीतिक पटल पर पर ....  लेख पढ़ें
संसद का मानसून सत्रः कामकाज के लिहाज से 18 सालों में सबसे अच्छा, लोकसभा में 118 प्रतिशत काम हुआ जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 11, 2018
संसद का मौजूदा मॉनसून सत्र कामकाज के लिहाज से पिछले 18 सालों में सबसे अच्छा रहा. इस दौरान 12 विधेयक पारित किए गए. संसदीय कार्य मंत्रालय के अनुसार 18 जुलाई से 10 अगस्त के बीच लोकसभा में 118 प्रतिशत काम हुआ. प्रश्नकाल में 84 प्रतिशत काम हुआ. वहीं, राज्यसभा में भी नियत समय के मुताबिक 68 प्रतिशत काम हुआ. ....  लेख पढ़ें
आखिर हम नेता किसे कहें ? अमित मौर्य ,  Jul 31, 2018
नेता" किसे कहा जाए ? आखिर "नेता" की परिभाषा क्या है ? नेता शब्द संस्कृति से आया है "नेता" वह जो नयन व्यापार करे यानी किसी चिन्हित लक्ष्य तक ले जाने का काम करे . Some time "actual meaning" of a word is different than the "notional meaning" . "Leader" is also one of the same . यहाँ "संगठन" और "गिरोह" के अंतर को भी समझना जरूरी है . संगठन सिद्धांतनिष्ठ होता है और गिरोह व्यक्तिनिष्ठ . नेता या Leader वह व्यक्ति होता है जो उस संदर्भगत तात्कालिक समाज को ऊष्मा का सुचालक बना कर अपने द्वारा लागू सांगठनिक अनुशाशन का अनुपालन करने को प्रेरित कर पालन भी करवाए . नेता वह व्यक्ति इकाई है जिस पर किसी चिन्हित उद्देश्य या विश्वास को लेकर अन्य बिखरी हुयी व्यक्ति इकाईयां आलाम्बित और घनीभूत (polarize ) होती हैं . नेता संगठन और संगठन के विघटन का कारक तत्व होता है पर गिरोह का नहीं . गिरोह में नेता नहीं होता सरगना होता है . आज कल प्रायः सभी राजनीतिक दल "संगठन ....  लेख पढ़ें
अविश्वास प्रस्ताव पर बहसः सियासत के सांपों की सभा में सिर्फ़ जीभों की लपालप त्रिभुवन ,  Jul 21, 2018
आपके पास चार साल पहले वोट थे 336 और अब रह गए हैं 325 वोट। और अविश्वास भी आपके ही सहयोगी लेकर आये। क्या आप सिर्फ़ नेहरू-गांधी परिवार को कोस-कोस कर ही अपना शासन चलाएंगे? इस देश को एक जिम्मेदार भाजपा, एक जिम्मेदार कांग्रेस, एक जिम्मेदार वामपंथी दल चाहिए, जो कम से कम अपने आप शासित होता हो और किसी बाहरी या संविधानेतर संगठन से संचालित, प्रशासित और शासित नहीं होता हो। ....  लेख पढ़ें
Indian Political System
INDIA is a Union of States. It is a Sovereign Socialist Democratic Republic with a parliamentary system of government. The Republic is governed in terms of the Constitution of India which was adopted by the Constituent Assembly on 26th November 1949 and came into force on 26th January 1950. It is a representative democracy, "in which majority rule is tempered by minority rights protected by law."<...ReadStory
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल